दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi

0

दोस्तों अगर आप दीपावली के ऊपर या फिर दिवाली के ऊपर निबंध लिखना चाहते हो तो आँजके इस पोस्ट में हम आपके साथ share करिंगे Diwali Essay for child for students, 10 line diwali essay, essay on diwali in hindi with headings and all about दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi!

दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi! दीपावली उत्सव हिंदू धर्म का एक बहुत ही मुख्य उत्सव है जोकि सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि देश के और भी अन्य जगह पर भी मनाया जाता है। दीपावली उत्सव बुराई पर अच्छाई की जीत होने की खुशी पर मनाया जाता है अगर हम दिवाली उत्सव के बारे में बात करें तो दीपावली के उत्सव में सभी लोग अपने के साथ-साथ अपने घर को भी बहुत अच्छे तरीके से दिया से सजाते हैं।

यदि आप क्लास 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 के स्टूडेंट है तब आज का यह आर्टिकल आप सभी के लिए खास होने वाला है क्योंकि आज के इस आर्टिकल पर हम आप सभी को दीपावली के ऊपर निबंध (Long and Short Essay on Diwali in Hindi in 200 words 300 words 500words 700 words) के बारे में बताएंगे जिसे पढ़कर आप बाद में अच्छी तरीके से दीपावली उत्सव के बारे में निबंध लिख पाएंगे।


दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi

निबंध 1 (200 Words)

हमारे भारत में दुर्गा पूजा को जैसे बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है ठीक उसी तरीके से दीपावली के उत्सव को भी हमारे भारत में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि देश के और भी कई अन्य जगह पर भी दीपावली के उत्सव को मनाया जाता है। दीपावली हिंदू धर्म का एक मुख्य उत्सव है परंतु इस उत्सव में और भी अन्य धर्म के लोग भी शामिल होते हैं।


श्री राम जब 14 साल के वनवास से अयोध्या में लौट रहे थे तब अयोध्या के लोगों ने खुशी के कारण रात में श्रीराम के लिए दिया जलाया था और इसी वजह से आज के दिन दीपावली उत्सव को मनाया जाता है। दीपावली के इस खुशी के उत्सव में सभी लोग अपने घर में दिया जलाते हैं और इसी वजह से दीपावली उत्सव को दीपों का उत्सव भी कहा जाता है। आज के दिन रात सभी लोग नया कपड़े पहन कर बाहर घूमने जाते हैं और सिर्फ अपनों को ही नहीं बल्कि अपने घर को भी दीया मोमबत्ती और इलेक्ट्रिक लाइट से सजाते हैं।

आज के इस खुशी के दिन में सभी लोग सभी के घर जाते हैं और सभी के घर में मेहमान भी आते हैं तो इसी वजह से घर में सभी लोग अच्छे कपड़े पहनने के साथ-साथ अच्छे स्वादिष्ट पकवान और मिठाई भी बनाते हैं और इसी वजह से दीपावली का उत्सव और भी बेहतर लगता है। दीपावली के दिन छोटे बच्चे से लेकर बड़े सभी लोग खुशी और आनंद के साथ पटाखे जलाते हैं।

निबंध 2 (300 Words)

भूमिका:

हमारे भारत में बहुत सारा त्यौहार मनाया जाता है परंतु उनमें से जो त्यौहार बहुत धूमधाम से मनाया जाता है वह है दीपावली।दीपावली हमारे हिंदू धर्म का एक बहुत ही मुख्य उत्सव है।

छोटे बच्चे से लेकर बड़े सभी लोग दीपावली उत्सव को बहुत ही धूम धाम से मनाते हैं सिर्फ यही नहीं बल्कि इस उत्सव में सभी लोग अपने घर को दीया से या फिर लाइट से सजाते भी है। दीपावली उत्सव हमारे भारत के अलावा और भी कई और अन्य देश में मनाया जाता है।

दीपावली के दिन भगवान श्री राम ने रावण को हत्या किया था और इसी अच्छाई के जीत पर अयोध्या के लोगों ने श्री राम के आने के खुशी में पूरे अयोध्या रात में सभी घर पर दिया लगाए थे और इसी कारण आज के दिन दीपावली के उत्सव को मनाया जाता है।

लक्ष्मी पूजन:

दीपावली के उत्सव में सभी लोग अपने घर,दुकान और ऑफिस के खुशियों के लिए भगवान श्री लक्ष्मी जी का पूजा करवाते हैं। हर साल जब दीपावली आता है तब हर कोई अपने घर दुकान ऑफिस को अच्छे तरीके से साफ करते हैं ताकि उसमें और अच्छा हो और खुशियां हमेशा रहे।

दीपावली के दिन सभी लोग रात में नए कपड़े पहन कर बाहर जाते हैं। इस त्यौहार में अपनों को तोहफा दिया जाता है और सब मिलकर एक साथ में चाय और अच्छा पकवान खाते हैं। इस दिन सभी कार्यालय बंद रहता है चाहे वह सरकारी कार्यालय हो या फिर प्राइवेट। दीपावली के दिन सभी लोग अपने घर को मोमबत्ती दिया और इलेक्ट्रिक लाइट से सजाते हैं।

उपसंहार:

दीपावली के उत्सव में सभी लोग अपने दुख को बुलाकर हंसी मजाक के साथ अपनों के साथ रहते हैं इस दिन सभी लोग नया कपड़ा पहनते हैं घर को अच्छे तरीके से सजाते हैं अपनों के साथ बातचीत करते हैं और अच्छा पकवान और मिठाई बनाते हैं। दीपावली में लगभग सभी घर में दिया जलते हैं इसी वजह से दीपावली के उत्सव को दीपों का उत्सव भी कहा जाता है।

निबंध 3 (500 Words)

भूमिका:

भारत अपने ऐतिहासिक उत्सव के बारे में जाने जाते हैं। हिंदू धर्म का एक बहुत ही मुख्य उत्सव है दीपावली। दीपावली के उत्सव को मनाने के पीछे एक ऐतिहासिक कारण है अगर हम उन कारणों के बारे में बताएं तो भगवान श्री रामचंद्र जब रावण का वध करके अयोध्या में लौट रहे थे 14 वर्ष वनवास के बाद तब अयोध्या के लोग खुशी में पूरे अयोध्या के सभी सभी घर  में दीया जलाए थे और इसी वजह से दीपावली का उत्सव मनाया जाता है।

सभी लोग अपने दुख को बुलाकर हंसी खुशी के साथ इस त्योहार को मनाते हैं। दीपावली के इस महत्वपूर्ण उत्सव में लगभग सभी के घर में दीया जलते हैं और इसी वजह से दीपावली के उत्सव को दीपों का उत्सव भी कहा जाता है। छोटे बच्चे से लेकर बड़े बुजुर्ग सभी इस दीपावली के त्यौहार पर नए कपड़े पहनते हैं सिर्फ अच्छे कपड़े ही नहीं बल्कि अपने घर को दीया, मोमबत्ती और रंगोली से सजाते भी हैं।

दीपावली के इस खास उत्सव को सभी लोग अलग-अलग तरीके से मनाते हैं कोई लोग बाहर जाकर मनाते हैं तो कोई लोग अपने घर पर अच्छे पकवान और पटाखे जलाकर मनाते हैं। ज्यादातर लोगों के घर में दीपावली के दिन अच्छे पकवान के साथ स्वादिष्ट मिठाई भी बनता है। सभी लोग आज के इस दिन अपने घर को दिया याफिर Lighting से सजाते हैं जो कि देखने में बहुत ही अच्छा लगता है।

दीपावली का महत्व:

दीपावली को पूरे भारत में बहुत ही खुशी और धूम-धाम से मनाया जाता है। इस दिन को अंधकार पर प्रकाश, बुराई पर अच्छाई, अज्ञान पर ज्ञान की जीत के रूप में मनाया जाता है।

दीपावली हिंदू धर्म का एक मुख्य उत्सव है परंतु और भी अन्य धर्म के लोग इस उत्सव में शामिल होते हैं जिसके कारण उत्सव और भी अच्छा लगता है। इस उत्सव में सभी लोग नया कपड़े पहनते हैं। बहुत सारे लोग अपने घर दुकान या फिर ऑफिस कि खुशियों के लिए लक्ष्मी जी का पूजा करवाते हैं। दीपावली के दिन सभी बड़े अपने से छोटे को तोहफा या फिर पैसा देते हैं।

बच्चों की दीपावली:

जैसे बड़े नया कपड़े पहनकर अच्छा पकवान और पूजा करा कर इस दिन को मनाते हैं ठीक उसी तरीके से बच्चे भी इस दिन को पटाखे चलाकर अपने दोस्तों के साथ खेलकर अच्छी स्वादिष्ट पकवान खा कर मनाते है।

ऐसे बहुत सारे बच्चे हैं जो कि दीपावली के दिन अपने स्कूल में जाकर स्कूल को दीया और मोमबत्ती से सजाते हैं। दीपावली के दिन ज्यादातर बच्चे लोग ही आनंद उठाते हैं क्योंकि इस दिन घर पर मिठाई अच्छा पकवान के साथ बच्चे पटाखे भी जलाते हैं और बड़े बच्चों को उपहार भी देते हैं।

उपसंहार:

दीपावली ऐतिहासिक उत्सव होने के कारण हमारे भारत में सभी लोग दीपावली के उत्सव को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाते हैं। इस दिन को और भी बेहतर बनाने के लिए बहुत सारे लोग अपने घर में मेहमान को बुलाते हैं और अच्छे खान-पान और फटाके जलाकर के खुशी मनाते हैं। आज के दिन सभी लोग अपनों को आशीर्वाद करने के साथ तोहफा भी देते हैं जिसके कारण यह उत्सव और भी खास हो जाता है।

निबंध 4 (700 Words)

भूमिका:

दीपावली भारत का एक ऐतिहासिक और मुख्य उत्सव है। दीपावली के उत्सव में छोटे बच्चे से लेकर बड़े सभी बहुत खुशी से रहते हैं। भारत में ऐसे बहुत सारे त्योहार होते हैं परंतु दीपावली के त्यौहार को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है इस दिन सभी नए कपड़े पहनते हैं और सिर्फ यही नहीं बल्कि अपने को सुंदर दिखाने के साथ-साथ अपने घर को भी सुंदर दिखाने के लिए दीया मोमबत्ती जलाते हैं।खुशी के उत्सव दीपावली को लोग अलग-अलग तरीके से मनाते हैं कोई अपने घर में रहकर मनाते हैं तो कोई बाहर जाकर दीपावली के उत्सव को मनाते हैं।

दीपावली क्यों मनायी जाती है?

दीपावली उत्सव कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है क्योंकि इस दिन श्री राम रावण को बंद करके 14 साल वनवास के बाद अपने घर अयोध्या में आए थे और इसी वजह से अयोध्या के सभी लोग खुश होकर अपने घर के सामने दिया जलाया था और इसी वजह से यह उत्सव दीपावली मनाया जाता है। दीपावली के इस उत्सव में दीया जलाने के कारण इस उत्सव को दीपों का उत्सव भी कहां जाता है।

दीपावली की तैयारी:

दीपावली के उत्सव में सभी लोग नया कपड़ा पहनते हैं और इस दिन सभी अपने दुख को बुलाकर खुशी के साथ त्योहार को मनाते हैं। बहुत सारे लोग इस दिन अपने घर दुकान ऑफिस या फिर कारखाना की खुशी के लिए लक्ष्मी जी का पूजा भी करवाते हैं।

सिर्फ यही नहीं बल्कि सभी लोग अपने घर को बहुत अच्छे तरीके से साफ सफाई करते हैं और बाहर दीया मोमबत्ती और लाइट भी लगाते हैं जिसके कारण घर बहुत ही अच्छा देखने में लगता है। दीपावली के दिन लगभग सभी के घर में अलग-अलग तरह के पकवान और मिठाई बनते हैं। दीपावली के दिन बारे अपने छोटों को आशीर्वाद देने के साथ तोहफा या पैसा भी देते हैं। बच्चे इस दिन सभी दोस्तों और परिवार के साथ मिलक पटाखे जलाते हैं।

पूजा की विधि:

जिस दिन दीपावली मनाया जाता है ठीक उसी दिन लक्ष्मी जी का भी जन्म हुआ था इसी वजह से दीपावली के दिन लक्ष्मी जी का पूजा भी किया जाता है। सभी लोग अपने घर की खुशी और सुख शांति के लिए लक्ष्मी जी का पूजा करती है दीपावली के दिन।दीपावली के दिन जब भगवान लक्ष्मी जी की पूजा होती है तब आरती का जो थाली होती है उसमें कुछ पैसा,सोने,चावल और चांदी का एक सिक्का रखा जाता है। दीपावली के दिन जब लक्ष्मी जी का पूजा होता है तब प्रसाद में मिठाई रखा जाता है।

उपसंहार:

जब हम किसी पर्व या उत्सव को मनाते हैं तो उसे मनाते समय हमें उसके आरंभ और उद्देश्य के बारे में सोचने और याद करने में बहुत आसानी होती है। दीपावली हमारे भारत का एक मुख्य उत्सव है परंतु यह सिर्फ हमारे भारत में ही नहीं बल्कि देश के और भी कई अन्य जगह पर भी मनाया जाता है।


दीपावली के उत्सव में मेहमान घर आते हैं और बहुत सारे तोहफा भी लेकर आते हैं जिसकी वजह से बच्चे बहुत खुश हो जाते हैं इस उत्सव में अच्छे पकवान के साथ अच्छी स्वादिष्ट मिठाई भी बनते हैं। घर में दिया और मोमबत्ती जलाकर उत्सव को और भी खास मनाया जाता है।

दोस्तों आशा करते हैं कि आप सभी लोगों को हमारा आज का यह आर्टिकल पसंद आया होगा आज के इस आर्टिकल पर हमने आप सभी लोगों को दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi! के बारे में बताया है।

उम्मीद है की अब आप Diwali Essay in hindi for child for students, 10 line diwali essay, essay on diwali in hindi with headings and all about दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi! के बारे में काफ़ी कुछ जान गये होगे।

उम्मीद है की आपको दिवाली पर निबंध – Essay On Diwali In Hindi! का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here