मेरा विद्यालय पर निबंध – Essay On My School In Hindi

0

मेरा विद्यालय पर निबंध – Essay On My School In Hindi! दोस्तों अगर आप मेरा विद्यालय या मेरे स्कूल पर निबंध लिखना चाहते हो तो आजका यह पोस्ट आपके लिए काफ़ी हेल्पफ़ुल होने वाल है, क्यूकी आज इस पोस्ट में हम आपके साथ essay on my school for every class, importance of school, my school essay in hindi.

मेरा विद्यालय पर निबंध – Essay On My School In Hindi In 150+ words, 250+ words, 300 words, 500 words. नमस्कार students कैसे हैं आप लोग आशा करता हूं कि आप सभी लोग अच्छे ही होंगे, क्या आप सभी लोग class 1 से लेकर 12 के स्टूडेंट है यदि हां तब आप सभी लोग बिल्कुल ही सही जगह पर आए हैं क्योंकि अक्सर आपके स्कूल में मेरी विद्यालय के ऊपर निबंध लिखने दिया जाता है आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप आसानी से मेरे विद्यालय के ऊपर निबंध लिख पाएंगे वह भी 300 शब्द 500 शब्द और 800 शब्द का।

मेरे घर से स्कूल में जाने के लिए मुझे लगभग 1 से 2 घंटा लगता है। छोटे बच्चे से लेकर बड़े सभी लोग स्कूल को मंदिर के समान मानते हैं और इस मंदिर में पढ़ाई के साथ-साथ और भी कई एक्टिवेट इसको भी करवाया जाता है। हमारा स्कूल सुबह के ठीक 7:30 बजे प्रार्थना के साथ शुरू होता है। पार्थना करने के बाद हम स्कूल में पढ़ना शुरू कर देते हैं फिर 4 प्लस हो जाने के बाद हमें 45 मिनट का समय मिलता है जिसमें कि हम घर से लाया हुआ टिफिन को सभी के साथ मिलजुल कर खाते हैं। एक बच्चा बड़ा होकर क्या होगा यह इस विद्यालय से शुरू होता है।


मेरा विद्यालय पर निबंध – Essay On My School In Hindi

निबंध 1 (100 Words)

मेरा विद्यालय सिर्फ मेरे लिए ही ज्ञान का मंदिर नहीं है यह सभी लोगों के लिए ही ज्ञान का मंदिर है छोटे बच्चे से लेकर बड़े सभी लोग विद्यालय को बहुत ही श्रद्धा करते हैं क्योंकि यही एक ऐसा जगह है जहां से छोटे बच्चे शिक्षा का ज्ञान को प्राप्त करते हैं। यदि मैं मेरे स्कूल के बारे में बात करो तो मेरे स्कूल में हर एक छात्र के स्टूडेंट के लिए अलग-अलग कमरा है। हमारे विद्यालय में जैसे पढ़ाई को महत्व दिया जाता है ठीक उसी तरह से खेलकूद को भी महत्व दिया जाता है।

मेरे स्कूल में एक लाइब्रेरी और एक कंप्यूटर लैब है। जब हम विद्यालय में प्रवेश करते हैं तब हम राष्ट्रीय संगीत को प्रार्थना करते हैं। जो भी बच्चे बहुत दूर से आते हैं हमारे विद्यालय में पढ़ने के लिए उन लोगों के लिए हमारे स्कूल में हॉस्टल मौजूद है जहां पर वह बच्चे रहकर पढ़ाई कर सकते हैं। हमारे स्कूल सुबह के 7:30 बजे शुरू होता है और पार्थना के बाद हमारा स्कूल में पढ़ाई 5 घंटे तक होता है।

निबंध 2 (200 Words)

स्कूल को ज्ञान का मंदिर कहा जाता है क्योंकि स्कूल ही एक मात्र ऐसा जगह है जहां से छोटे बच्चे अपना ज्ञान को प्राप्त करते हैं। मेरे विद्यालय में तीन मंजिला है जिसमें क्लास 1 से लेकर 12 कि student को पढ़ाया जाता है। अगर मैं मेरे स्कूल के बारे में बताओ तो मेरे स्कूल में सभी लोग बहुत ही सांस को आपके हैं और हम जब हमारे स्कूल में प्रवेश करते हैं तब हम राष्ट्रीय संगीत को सभी मिलकर गाते हैं।


राष्ट्रीय संगीत को गाने के बाद हमारा 5 घंटा का क्लास शुरु हो जाता है और हमें इसके बीच में 45 मिनट का टिफिन ब्रेक देखने को मिलता है जिसमें हम घर से लाया हुआ खाने को सभी के साथ मिलजुल कर खाते हैं। मेरा स्कूल मैं हमें बस का सुविधा देखने को मिल जाता है जो कि सुबह हमें घर से विद्यालय तक लेकर आता है। हर एक कक्षा के स्टूडेंट के लिए हमें अलग-अलग रूम देखने को मिलता है।

मेरे स्कूल में हमें एक छोटा सा लाइब्रेरी देखने को मिलता है परंतु लाइब्रेरी में लगभग हमें सभी तरीके का किताब देखने को मिल जाता है जिसे हम कुछ दिन के लिए अपने घर में भी ला सकते हैं। मेरे स्कूल में लाइब्रेरी के साथ एक कंप्यूटर लाइब्रेरी भी हमें देखने को मिलता है जहां पर क्लास 5 से लेकर 12वीं के छात्र सभी कंप्यूटर सीखते हैं।

निबंध 3 (300 Words)

मेरा विद्यालय भगवान के मंदिर के समान है। विद्यालय को मंदिर इस वजह से कहा जाता है क्योंकि छोटे बच्चे यहां से ही शिक्षा को प्राप्त करेंगे और यहां से शिक्षा लेने के बाद ही वह जीवन में कुछ कर पाएंगे। मेरे घर से मेरा स्कूल जाने में लगभग 1 घंटे का समय लगता है। विद्यालय में प्रवेश करने के बाद हम सभी विद्यार्थी एक साथ मिलकर राष्ट्रीय संगीत गाते हैं फिर हमारा पढ़ाई शुरू होता है जो कि लगातार 5 घंटा तक होता है। मेरा स्कूल मैं जितने भी अध्यापक है वह सभी भगवान के समान है।

हम अपने स्कूल में स्कूल की वर्दी को पहन कर जाते हैं। मेरे विद्यालय का Bus हमें घर से स्कूल ले जाने के लिए आते हैं। स्कूल का साफ सफाई करना हमारा एक बहुत ही बड़ा कर्तव्य है इस वजह से हम स्कूल में प्रवेश करके प्रार्थना करने के साथ-साथ स्कूल को साफ भी करते हैं। मेरे विद्यालय में पढ़ाई के साथ साथ और भी कई तरह के एक्टिविटी को कराया जाता है जिसमें की क्रिकेट फुटबॉल हॉकी आदि यह सभी शामिल है। मेरे विद्यालय में पढ़ाई 5 घंटे तक होता है और 3 घंटा क्लास करने के बाद हम घर से लाया हुआ टिफिन को सभी के साथ मिलजुल कर खाते हैं।

मेरे विद्यालय में सभी लोगों का स्वभाव बहुत ही अच्छा है। यदि हम हमारे विद्यालय के बारे में बताएं तो हमारा विद्यालय में 3 मंजिला है जिसमें class 1 के छात्र को लेकर 12वीं के छात्र तक पढ़ते हैं। जब हम हमारे स्कूल में प्रवेश करते हैं तब हमें एक छोटा सा मंदिर और बड़ा सा एक खेलने का मैदान देखने को मिलते हैं। जिस समय हमारा पढ़ाई हो जाता है तब हम स्कूल के मैदान में आकर खेलकूद करते हैं हमारे स्कूल के मैदान में अक्सर क्रिकेट फुटबॉल जैसे गेम को खेला जाता।


हमारे स्कूल में हमें क्रिकेट कोर्ट,बास्केटबॉल कोर्ट और टेनिस कोर्ट देखने को मिलता है जिसमें कि सभी बच्चा जाकर खेल सकते हैं। मेरे स्कूल में एक लाइब्रेरी है जहां से सभी बच्चे अपने class के अनुसार कोई भी किताब को घर ले जा सकता है कुछ दिन के लिए और सिर्फ यही नहीं बल्कि एक छोटा सा कंप्यूटर लैब भी है जहां पर सभी बच्चे कंप्यूटर क्या है कैसे चलाते हैं यह सब सीखते हैं।

हमारे स्कूल में एक छोटा सा हॉस्टल भी है जहां पर दूर से आए हुए बच्चे रहते हैं और शिक्षा का लाभ उठाते हैं। हमारा स्कूल मैं एक सुविधा हमें देखने को मिलता है वह है कि हम छुट्टी के दिन रविवार स्कूल में आकर भी योगा कर सकते हैं। हमारे विद्यालय में सभी विषय के शिक्षक अलग-अलग है जिसके कारण हम बहुत ही अच्छे तरीके से विषय के बारे में जान पाते हैं।

निबंध 4 (500 Words)

मेरा स्कूल मेरे जीवन का एक बहुत ही बड़ा हिस्सा है क्योंकि यही एकलौता ऐसा जगह है जहां से हम शिक्षा का ज्ञान को प्राप्त कर सकते हैं हम जैसे हमारे घर पर रहकर भी बहुत कुछ सीखते हैं ठीक उसी तरह से यह विद्यालय भी हमारे लिए एक शिक्षा का घर है जहां से हम लोग शिक्षा का ज्ञान को प्राप्त करते हैं। मेरा स्कूल मेरे घर से सिर्फ 1 किलोमीटर दूर में ही है जहां पर जाने में मुझे ज्यादा समय नहीं लगता और हमारे स्कूल में हमें बस का सुविधा मिलता है जिसके कारण मेरे घर पर स्कूल का बस आता है जो कि मुझे स्कूल तक छोड़ देता है ऑल सभी लोग बस से ही नहीं बल्कि अपने साइकिल से भी स्कूल आते हैं।

मेरे विद्यालय में लगभग 50 कमरा है जिसमें की एक कमरा लाइब्रेरी का है कोई भी छात्र लाइब्रेरी से कोई भी किताब को कुछ दिन के लिए ले जा सकता है लाइब्रेरी के साथ हमारे विद्यालय में एक कंप्यूटर लैब है जहां से छात्र computer सीख सकता है और कंप्यूटर के लैब में लगभग 30 कंप्यूटर स्टूडेंट के लिए मौजूद है।

जो बच्चे हॉस्टल में रहते हैं और जो बच्चे घर से टिफिन नहीं लेकर आते हैं वह स्कूल के कैंटीन में से भी खाना खा सकता है यह सुविधा भी हमारे स्कूल में है। मेरे विद्यालय में प्रवेश करते ही हमें पहले ही एक बड़ा सा खेलने का मैदान देखने को मिलता है और ठीक उसके पास ही हमारे प्रिंसिपल का ऑफिस है। मेरे विद्यालय में पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद को भी महत्व दिया जाता है। अगर मैं मेरे स्कूल के मैदान के बारे में बात करो तो हमारे स्कूल में एक बास्केटबॉल कोर्ट और एक क्रिकेट कोर्ट है जहां पर बच्चे क्रिकेट या फुटबॉल सीख और खेल सकते हैं।

हमारे स्कूल में एक बहुत बड़ा बगीचा है जहां पर सभी स्टूडेंट मिलकर पौधा लगाते हैं और देखभाल भी करते हैं। हर साल लगभग वह सारे बच्चे मिलकर पौधा को लगाते हैं और कोई कोई पौधा बड़ा हो जाने पर अपने घर में भी पौधा को लेकर जाते हैं। हमारे विद्यालय में हर एक कक्षा के अलग-अलग विषय में अलग-अलग teacher है जिसके कारण सभी अच्छे तरीके से पढ़ाई कर पाते हैं। मेरे विद्यालय में कक्षा 1 से लेकर 12वीं तक पढ़ाया जाता है।

हर साल हमारे विद्यालय के साथ दूसरे विद्यालय का क्रिकेट या फुटबॉल मैच होता है और सिर्फ यही नहीं बल्कि और भी अन्य अन्य कंपटीशन भी है हमारे स्कूल में आयोजित किया जाता है। हमारे स्कूल के शिक्षक बहुत ही अच्छे स्वभाव के हैं क्योंकि शिक्षक हमें कोई भी कठिन असुविधा बहुत आसानी से समझाते हैं। हमारे स्कूल में लगभग हर तरह के त्योहारों को मनाया जाता है।

हमारे प्रिंसिपल हमारे चरित्र गठन, शिष्टाचार, नैतिक शिक्षा, अच्छे मूल्यों को प्राप्त करने और दूसरों का सम्मान करने के लिए मीटिंग हॉल में रोजाना 10 मिनट तक हर छात्र की कक्षाएं लेते हैं। हमारे स्कूल का समय बहुत ही रोचक और सुखद है क्योंकि हम रोजाना बहुत सारे रचनात्मक और व्यावहारिक काम करते हैं।हमारा चरित्र अच्छे तरीके से गठन हो इसीलिए हमारे विद्यालय में एक अलग से क्लास भी कराया जाता है। जो जो बच्चे हर साल हमारे स्कूल में अच्छा काम करते हैं उन्हें हमारे स्कूल के तरफ से सम्मानित किया जाता है।

दोस्तो Hope करता हूं कि आज का यह informative आर्टिकल (मेरा विद्यालय पर निबंध – Essay On My School In Hindi) आप सभी लोगों को बहुत पसंद आया होगा। हमने हमारे आज के इस आर्टिकल पर जो मेरे विद्यालय के ऊपर निबंध के बारे में बताया है उसको पढ़कर आप बहुत आसानी से विद्यालय के ऊपर निबंध लिख सकते हैं।

उम्मीद है की आपको मेरा विद्यालय पर निबंध – Essay On My School In Hindi! का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here