15 अगस्त पर भाषण – Independence Day Speech In Hindi

0

15 अगस्त पर भाषण – Independence Day Speech In Hindi! दोस्तों अगर आप अपने स्कूल या कॉलेज में 15 अगस्त पर भाषण देना चाहते हो तो आँजके इस पोस्ट में हम आपके साथ short and long Independence Day Speech, Independence Day Speech for teachers and students, Independence Day Speech for kids and every class in hindi share करिंगे।

भारतवर्ष का प्रत्येक नागरिक 15 अगस्त को भारत की आजादी के पर्व के तौर पर स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाता है। छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्गों द्वारा हर्षोल्लास एवं सम्मान के साथ इस दिन को मनाया जाता है।।

स्वतंत्र दिवस के अवसर पर सभी विद्यालयों, कॉलेज तथा अन्य शिक्षण संस्थानों में भाषण दिए जाते हैं। कई विद्यालयों में छात्रों के लिए भाषण प्रतियोगिता आयोजित की जाती है।  हर कोई छात्र चाहता है कि वह 15 अगस्त के सुअवसर पर सर्वश्रेष्ठ भाषण स्टेज से सुना सके।


और यदि आप भी 15 अगस्त independence Day Speech in Hindi खोज रहे हैं तो यह लेख आपके इस कार्य में जरूर कुछ मदद कर सकता है। यहां हमने स्वतंत्रता दिवस पर 3 स्पीच तैयार की गई है आशा है यह स्पीच आपको एक अच्छे भाषण कि तैयारी करने में मदद करेगी।

15 अगस्त पर भाषण – Independence Day Speech In Hindi

भाषण 1 (Long Speech On Independence Day In Hindi)

माननीय अतिथि, प्रधानाचार्य जी, समस्त शिक्षक गण, एवं यहां उपस्थित सभी छात्रों को मेरी तरफ से सुप्रभात आपको स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं। आज हम यहां सभी अपना 73 वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहे हैं।  मुझे इस अवसर पर अपने विचार रखने का गौरव प्रदान किया गया है, जिसके लिए में शिक्षकों एवं आयोजकों का दिल से धन्यवाद करना चाहूंगा।

15 अगस्त एक ऐसी तिथि है जो भारत के प्रत्येक नागरिक के लिए अस्मरणीय है। क्योंकि अंगेजी शासन के खिलाफ विद्रोह करने वाले स्वतंत्रता सेनानियों, शहीदों को इस अवसर पर याद कर उन्हें नमन किया जाता है जिनकी वजह से आज हम एक स्वतंत्र राष्ट्र में रह पा रहे हैं।

15 अगस्त वर्ष 1947 को जब भारत को एक स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया। तो इसका अर्थ था अब भारत के आर्थिक एवं राजनीतिक फैसलों के अलावा सभी प्रशासनिक कार्य  देश की जनता द्वारा एवं उनके हित में भारतीय राजनेताओं द्वारा किए जाएंगे। उन शहीदों और क्रांतिकारियों की कुर्बानी को किसी भी हालत में नागरिकों के लिए बुलाना संभव नहीं है। जिन्होंने अपनी जान की चिंता न करते हुए देश के खातिर अपनी जानें गंवा दी।

अतः 15 अगस्त का यह दिन न सिर्फ भारत की आजादी बल्कि देश की एकता& अखंडता को भी दर्शाता है। क्योंकि इस दिन बिना धर्म, जाति, रंग के आधार पर भेदभाव के बगैर एक झंडे के नीचे सभी लोग उपस्थित होकर राष्ट्रगान करते हुए देश की राष्ट्रीय एकता को दर्शाते हैं।

सभी विद्यालयों में स्वतंत्रता दिवस को एक राष्ट्रीय पर्व के तौर पर मनाया जाता है। सभी निजी एवं सरकारी विद्यालयों में इसकी धूमधाम जोरों शोरों से देखी जा सकती है इस मौके पर कई विद्यालयों में रैली भी निकलवाई जाती है एवं छात्र-छात्राओं के बीच लड्डूओं का वितरण होता है ।

दरअसल छात्र इस अवसर के आने से कुछ हफ्ते पूर्व ही काफी उत्साहित होते हैं। 15 अगस्त के दिन वे विभिन्न रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत करते हैं जिसके लिए कई छात्र, कई हफ्तों, महीनों से ही तैयारी में जुट जाते हैं। कई छात्रों को उनके खेलों में या पढ़ाई में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए इस दिन स्टेज पर मेडल पुरस्कार भी दिए जाते हैं और गौरवान्वित महसूस किया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश के प्रधानमंत्री लाल किले की प्राचीर से राष्ट्रीय झंडा फहराकर झंडारोहण करते हैं, इस विशेष अवसर पर देश की जनता के लिए भाषण होते हैं। इस भाषण को सुनने के लिए बड़ी संख्या में लोगों की सुबह से ही भीड़ वहां मौजूद होती है।

विभिन्न राज्यों में रहने वाले लोग जो इस अवसर पर उपस्थित नहीं हो पाते हैं वे न्यूज़ चैनल्स के माध्यम से इस राष्ट्रीय पर्व की प्रत्येक गतिविधि से रूबरू होते हैं।

स्वतंत्रता दिवस की संध्या के समय राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्र के नाम संबोधन दिया जाता है। इस संबोधन को सुनने के लिए देशवासी टीवी के सामने बैठ जाते हैं। रात्रि के समय स्वतंत्रता दिवस का नजारा देखते ही बनता है क्योंकि इस दिन भारत की राजधानी समेत विभिन्न सरकारी भवनों को रंग बिरंगी लाइटों से सजाया जाता है, को देखना अत्यंत रमणीय होता है।

आज देश को आजाद हुए तकरीबन 70 वर्ष से अधिक हो चुके हैं। विकास की राह पर हमारा देश दिनों-दिन आगे बढ़ रहा है। आज हम जिन सुख सुविधाओं का भोग कर पाते हैं आजादी के दौरान उनकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी। अंग्रेजों द्वारा देश के आर्थिक एवं सामाजिक ढांचे को बुरी तरीके से कमजोर करने की कोशिश की गई थी। जिस वजह से सोने की चिड़िया कहा जाने वाला भारत ऐसी कगार में आ चुका था जहां लोगों को गरीबी, भुखमरी जैसी हालत से लड़ना पड़ रहा था।


ऐसे में एक बार फिर से भारत को खुद के पैरों पर खड़ा करने के लिए सामने कई सारी चुनौतियां देखने को मिली। और उन चुनौतियों पर पार पाने के लिए इतिहास में हमें कुछ महान व्यक्तित्व जैसे सरदार बल्लभ भाई पटेल, जवाहरलाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री जैसे अनेक नाम याद आते हैं।

जिन्होंने आजादी के उपरांत देश को आगे बढ़ाने देश को एकजुट बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। देश के औद्योगिक ढांचे को फिर से वापस पटरी में लाने के लिए एवं आर्थिक विकास हेतु भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कई योजनाएं शुरू की गई जिनमें से पंचवर्षीय योजनाएं प्रमुख है।

आजादी के इतने सालों बाद आज काफी कुछ बदल चुका है  प्रधौगिकी से लेकर कृषि के क्षेत्र में हमने काफी कुछ परिवर्तन देखे हैं, जिसके परिणाम स्वरूप आज देश विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के जाना जाता है। एक छात्र, एक नागरिक के तौर पर हम सभी का यह फर्ज बनता है कि बड़े संघर्ष, बलिदानों एवं कड़ी मशक्कत के बाद देश आज जिस स्थिति में पहुंचा है उसे और बेहतर बनाने में हम योगदान दें।

और भारत को एक बार फिर से विश्व गुरु बना कर पूरे संसार में अपना परचम लहराए। इन्हीं अंतिम शब्दों के साथ मैं यहां अपने भाषण को विराम देना चाहूंगा/चाहूंगी एक बार फिर से मैं समस्त शिक्षक गणों के प्रति धन्यवाद व्यक्त करना चाहूंगा जिन्होंने मुझे इस अवसर पर अपने विचार रखने का मौका दिया। और साथ ही सभी प्रिय छात्रों को भी मुझे सुनने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

भाषण 2 (Short Speech On Independence Day In Hindi)

आदरणीय मुख्य अतिथि समस्त शिक्षक गण एवं यहां उपस्थित सभी विद्यार्थियों को मेरा नमस्कार आज हम स्वतंत्र दिवस की इस पावन पर मुझे यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि मुझे इस मौके पर विचार रखने का अवसर प्रदान किया जिसके लिए मैं शिक्षक गणों एवं आयोजकों का दिल से आभारी रहूंगा।

आज से 73 पूर्व जब हमारे देश को आजादी मिली तो उसके पीछे की गाथा को भुलाना कदापि संभव नहीं है। क्योंकि आजादी पाने के लिए क्रांतिकारियों वीर जवानों द्वारा किए गए संघर्ष का कारण न तो खुद की और अपने परिवार की फिक्र करना था। बल्कि सिर्फ अपने देश भारत माता के लिए हंसते-हंसते उन्होंने जान की कुर्बानी दे दी अतः उनकी शहादत का वर्णन करना भी शब्दों में बेहद मुश्किल है

आज से 100 वर्ष पूर्व हम भारत को देखें तो भारत एक ऐसा राष्ट्र था जो गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था अंग्रेजी हुकूमत के चलते हर किसी को ब्रिटिश शासन के अनैतिक एवं अयोग्य निर्णयों को भी मानना पड़ता था। और कोई उनके बनाए गए नियमों आदेशों का यदि पालन नहीं करता था तो उसको कड़ी से कड़ी यातनाएं दी जाती। लेकिन इसी बीच कुछ ऐसे महान व्यक्ति भी थे जो देश की दुर्दशा एवं अंग्रेजी शासन के रवैए को लेकर काफी दुखी एवं क्रोधित थे।

वे देख रहे थे कि किस प्रकार संपन्न खुशहाल भारत को अंग्रेज किस प्रकार खोखला बना कर इस देश को नष्ट कर रहे हैं इसीलिए उन्होंने देश को अंग्रेजी शासन के चुंगल से छुड़ाने एवं आजाद भारत की कसम खा दी। जिसके लिए न तो उन्होंने खुद की फिक्र की ना ही अपने परिवार की चिंता की सिर्फ और सिर्फ वर्तमान देश के निवासियों की और भारत की आगामी पीढ़ी की खातिर उन्होंने अपना बलिदान दे दिया।

इन क्रांतिकारियों एवं महान शहीदों मे चंद्रशेखर आजाद, सुखदेव ,भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस जैसे सैकड़ों हजारों नाम शामिल है जिनका एक ही मकसद था भारत की आजादी। काफी कठिन प्रयासों एवं कड़े संघर्ष के बाद जब भारत को वर्ष 1947 को आजादी मिली तो यह देश के लिए एक खुशहाल पल था। क्योंकि देश को लगभग 200 वर्षों से भी अधिक सालों बाद स्वतंत्रता मिली थी।

और प्रत्येक भारतीय इसकी अहमियत को भलीभांति जानता था। यही वजह है कि 15 अगस्त 1947 भारत के इतिहास में एक खास तिथि बन गई।  आज भी तकरीबन 70 वर्षों से अधिक साल के बावजूद पूरे भारतवर्ष में 15 अगस्त को स्वाधीनता दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

इस दिन सभी स्कूलों विद्यालयों में झंडारोहण किया जाता है रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं। एवं भारत की शौर्य गाथा एवं अमर शहीदों के बलिदान को याद किया जाता है। देश की राजधानी में इस विशेष दिन पर पर झांकियां एसीएम परेड निकाली जाती है एवं क्रांतिकारियों शहीदों की याद किया जाता है।

मैं वीर शहीदों की याद के साथ इन अंतिम शब्दों में कहना चाहूंगा कि भारत को मिली इस अनमोल एवं आजादी को बिल्कुल भी हमें व्यर्थ नहीं गंवाना चाहिए। हमें मिलकर देश को एक ऐसे मुकाम पर पहुंचाना है जहां से कोई भी राष्ट्र हमें  गुलाम बनाने की क्या हम पर आक्रमण करने की भी कोशिश ना कर सके?

15 अगस्त पर भाषण कैसे दें? (Tips for Independence Day in Hindi)

साथियों अभी हमने ऊपर दो भाषणों का वर्णन किया। जिनसे आपको एक idea जरूर मिल चुका होगा कि किस तरह से आपको स्वतंत्रता दिवस स्पीच बोलनी है। यदि आपको इस वर्ष इंडिपेंडेंस डे स्पीच स्टेज पर देनी है तो अब हम आपके साथ कुछ महत्वपूर्ण टिप्स शेयर कर रहे हैं जिनसे आप एक सुनियोजित स्पीच तैयार कर पाएंगे।

इस वर्ष इंडिपेंडेंस डे के अवसर पर आप अपनी स्पीच में हाल की खबरों को शामिल करें कहने का अर्थ यह है कि हाल की घटनाएं जिन्होंने पूरे राष्ट्र को गौरवान्वित महसूस कराया। उनका वर्णन जरूर करें उदाहरण के तौर पर अक्सर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मेडल जीतने, सीमा पार आतंकवादियों का मुकाबला कर सैनिकों द्वारा बहादुरी का परचम दिखाने जैसी कई आपके पास लेटेस्ट खबरें हो सकती हैं।

दोस्तों जब बात हो स्वतंत्रा की तो  आप अपनी स्पीच में कर्तव्य की बात भी जरूर करें। इंडिपेंडेंस डे के अवसर पर जब आप भाषण दे रहे हैं तो देश ने किस प्रकार स्वतंत्रता हासिल की और उसमें क्या संघर्ष छुपा था यह बताने के साथ-साथ अब इस स्वतंत्रता को बनाए रखने के लिए हमारे एक नागरिक के तौर पर क्या क्या कर्तव्य हैं उनका भी व्याख्यान करें।

देश में व्याप्त सामाजिक बुराइयों जैसे नशा करना, लड़कियों के साथ मारपीट, शोषण जैसी बुराइयों से निपटने के लिए हम क्या अपना योगदान दे सकते हैं। यह चीजें बता कर आप अपनी स्पीच को और बेहतर बना सकते हैं।


दोस्तों संभव है कि स्वतंत्रा दिवस के विषय पर स्पीच लिखने के लिए आपके पास बोलने को कई सारी चीजें हों। परंतु आप स्टेज पर जाएं, आप कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को कभी भी भूलना नहीं चाहेंगे। अतः स्टेज पर जाने से पूर्व उन सभी पॉइंट्स को पहले एक बार लिख ले।

उसके बाद आपको अपनी स्पीच को लिखने के बावजूद रटना नहीं है। अक्सर जो लोग रखते हैं इस बीच को वह स्टेज पर भूल जाते हैं तो नर्वस फील करते हैं तो ऐसे में आपको एक भाषण के लहजे में अपनी बात को कहना है। एग्जांपल के लिए आप किसी बड़े व्यक्ति कि से स्पीच को सुन सकते हैं।

भाषण के दौरान लोगों का ध्यान आपकी आप बना रहे हैं इसके लिए बीच-बीच में स्वतंत्रता से जुड़े मुहावरे या किस्सों का भी वर्णन करें इससे आपका भाषण और अधिक इंटरेस्टिंग बनेगा।

तो दोस्तों उम्मीद है की अब आपको 15 अगस्त पर भाषण से जुड़ी काफ़ी जानकारी मिल गयी होगी, और आप short and long Independence Day Speech, Independence Day Speech for teachers and students, Independence Day Speech for kids and every class in hindi के बारे में जान गये होंगे।

उम्मीद है की आपको 15 अगस्त पर भाषण – Independence Day Speech In Hindi का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here