Jumma Mubarak Status In Hindi (Jumma Mubarak Status 2021)


दोस्तों अगर आप जुम्मा मुबारक स्टेटस तलाश रहे हो तो आजके इस पोस्ट हम आपके साथ अलविदा जुम्मा मुबारक स्टेटस, Jumma Mubarak Status Dua, Jumma Mubarak Status Hindi, Jumma Mubarak Status Photo 2021! share करने वाले हैं।

मुस्लिम भाईचारे द्वारा Jumma का दिन अच्छे से मनाया जाता है। इसे छोटी ईद भी कहते हैं। इस दिन लोग अच्छे से तैयार होते हैं और Jumma की नमाज़ पढ़ते हैं। रमज़ान के महीने में तो शुक्रवार को और भी खास माना जाता है।

हफ्ते में सात दिन होते हैं और सभी दिन मुस्लिम लोग जोहर की नमाज़ पढ़ते हैं। ये नमाज़ें पढ़ना बेहद जरूरी होता है। लेकिन शुक्रवार यानी जुम्मा के दिन जोहर की नमाज़ के साथ जुम्मा की नमाज़ पढ़ी जाती है।



Jumma Mubarak Status

jumma mubarak sms in hindi 120

काश उन को भी याद आऊमैं जुम्मे की दुवाओ में
जोअक्सर मुझसे कहते हैदुवाओ मैं याद रखना।

jumma mubarak sms in hindi 1201

मेरी खाली झोली में दुआ के अल्फाज़ डाल दो,
क्या पता तुम्हारे होठ हिले और मेरी तकदीर संवर जाए.|

jumma mubarak sms in hindi 1202

पलकों पे अपनी बिताया है तुम्हे,
बढ़ी दुआओ के बाद पाया है तुम्हे,
आसानी से नहीं मिले हो तुम हमें,
दिल्ली के चिड़ियाघर से चुराया है तुम्हें.|

jumma mubarak sms in hindi 1203

ईमान में ही कोई कसर होता हैं,
वरना दुआओं का खूब असर होता हैं.|

jumma mubarak sms in hindi 1205

ख़ुदा की रहमत सभी पर बरसे,
दो वक्त की रोटी के लिए कोई न तरसे…|

jumma mubarak sms in hindi 1206

या अल्लह आज जुमा की नमाज़ के बाद जितने भी हाथ
तेरी बारगाह में दुआ के लिये उठे है सब की दुवा कुबूल फरमा.|

Jumma Mubarak Status Hindi

jumma mubarak shayari facebook

खुशिया , इज्जत, सुकुन “और ” प्यार “
ये चार चीजें ज़िन्दगी को ख़ूबसूरत बनती हैं…
अल्लाह आप की ज़िन्दगी में किसी की भी कमी ना करे… अमीन…
अस्सलाम ओ अलैकुम… जुम्मा मुबारक…|

jumma mubarak shayari facebook1

जो किस्मत में न हो वोह रोने से नहीं मिलता
मगर दुआ से मिल जाता है.|

jumma mubarak shayari facebook2

जीवन में कुछ अच्छे कर्म भी कर लिया करो,
गरीबों के लिए भी इक दुआ पढ़ लिया करो.|

jumma mubarak shayari facebook3

ख़ुदा के सजदें में जब मैं सिर को झुकाता हूँ,
मैं अपने सारे दुःख-दर्दों का हल पाता हूँ.|

Jumma Mubarak Status Photo

jumma mubarak shayari facebook4

या रब उनको सदा लाज़वाब रखना,
मैं उनसे दूर हूँ उनका ख्याल रखना,
मेरे जब भी हाथ उठे यही दुआ निकली,
उन के गिर्द हमेशा खुशियों का जाल रखना.|

jumma mubarak shayari facebook5

या अल्लह आज जुमा की नमाज़ के
बाद जितने भी हाथ तेरी बारगाह में
दुआ के लिये उठे है सब की दुवा कुबूल फरमा.|

jumma mubarak shayari facebook6

बाह रही अजीब हैं नादान-ए-दिल की खवाइश या
रब अमल कुछ नहीं और दिल तलबगार हैं
जन्नत का! जुम्मा मुबारक.|

Jumma Mubarak Status Dua

jumma mubarak shayari

दुआ माँग लिया करो दवा से पहले,
कोई नही देता शिफ़ा खुदा से पहले.
शिफ़ा = सेहत, स्वास्थ, आरोग्य.|

jumma mubarak shayari1

वो चमक चाँद में है न सितारों में हैं, जो मदीने के दिलकश नजारों में हैं,
बेजुबान पत्थरों को भी बख्श दी जुबान
इतनी ताकत मेरे नबी के इशारों में हैं..|

jumma mubarak shayari2

अब रब राज़ी होने लगता है
तो बन्दे को अपने अएबोन का पता चलने शुरू हो जाता है
और ये उसकी रहमत की पहली निशानी होती है.|

jumma mubarak shayari3

ए अल्लाह एक मौका हमको भी दे सफर-ए-मक्का का,
सुना हैं तेरे घर और जन्नत में कोई फर्क नहीं जुम्मा मुबारक.|

jumma mubarak shayari4

रब से जब भी मांगो रब को ही मांगो,
जब रब तुम्हारा होगा तो सब तुम्हारा होगा.|

jumma mubarak shayari5

दुआओं में सबकी खुशिया माँग लिया करो,
जो दुआ नहीं पढ़ते है उनकी भी तकदीर संवार दिया करों.|

jumma mubarak shayari6

अस्सलाम वालेकुम हर किसी क लिए दुआ किया करो
किया पता किसी की किस्मत तुम्हारी दुआ का इंतज़ार कर रही हो.|

jumma mubarak shayari download

सुकून” और “प्यार”ये चार चीज़ें ज़िन्दगी मैं ख़ूबसूरत बनती हैं,
अल्लाह पाक आप की ज़िन्दगी मैं किसी एक की भी कमी न करे.
अमीन जुम्मा मुबारक.|


अलविदा जुम्मा मुबारक स्टेटस

jumma mubarak shayari download1

पूरा जीवन बीत जाएँ ख़ुदा की बंदगी में,
पाँचों वक्त का नमाज अदा करू जिंदगी में.
जुम्मा मुबारक हो.|

jumma mubarak shayari download2

तुम अल्लाह को याद रखों अल्लाह तुम्हे याद रखेगा.
हर किसी के लिए दुआ किया करों.|

jumma mubarak shayari download3

साडी तारीफ़ें उस खुदा के लिए है जो बोले वाले का कलाम को सुन्नता है
और खामोश रहने वाले के दिल की बात जानता है.|

jumma mubarak shayari download4

बस यही गुजारिश है तुम से धन बरसे या
न बरसे पर रोटी या प्यार को कोई न तरसे.|

jumma mubarak shayari download5

कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ,
कि ख़ुदा नूर भी बरसाता है आजमाइशों के बाद.|

jumma mubarak shayari download6

कया पता किसी के नशीब में
आपकी दुआ का इंतज़ार कर रही हो
जुम्मा मुबारक.|

jumma mubarak shayari for girlfriend

चार चीज़ों को खूब संभाल क रखो नमाज़ में दिल को
तन्हाई में सोच को महफ़िल में जुबां को रास्ते में नीगाह को.|

jumma mubarak shayari for girlfriend1

पूरा जीवन बीत जाए ख़ुदा की बंदगी में,
पाँचों वक्त का नमाज अदा हो इस जिंदगी में.
जुम्मा मुबारक हो.|

jumma mubarak shayari for girlfriend2

अंधेरों को नूर देता हैं,
उसका जिक्र सुरूर देता हैं,
उसके दर पर जो भी मांगता हैं
खुदा उसे जरूर देता हैं.|

jumma mubarak shayari for girlfriend3

नमाज़ की तो वो शान है जो रोक देती हैं तवाफ़-ए-काबा को ए इंसान,
तेरे कामों की क्या औक़ात है जिस के लिए तू नमाज़ को छोड़ देता हैं…|

jumma mubarak shayari for girlfriend4

इबादत वो है जहां किसी का ज़िक्र ना हो,
सिर्फ उस उपरवाले की रहमतों का शुक्र हो.|

jumma mubarak shayari for girlfriend5

नहीं मायूस मैं अपने खुदा से,
बदल जाती है किस्मत दुआ से.|

jumma mubarak shayari love

अपने रब से मांगो की ना वो औकात देखता है ना ज़ात.|

jumma mubarak shayari love1

दिलों के झूकने से होते है आबाद घर खुदा के
सिर्फ सजदों से नहीं सजती वीरान मस्जोदें कभी.|

जुम्मा की कुल 14 रकात होती हैं इस के साथ जोहर की नमाज़ भी पढ़नी होती हैं। नमाज़ से पहले खुतबा सुनना भी अहम माना जाता है। लेकिन सफर के दौरान कुछ छूट होती है जिसमें कुछ रकात कम हो जाती हैं। कई सारी हदीसें भी हैं जिसमें जुम्मा के दिन का ज़िक्र आया है। जैसे कि जुम्मा के दिन जहन्नुम की आग नहीं जलाई जाती और न ही जहन्नुम के दरवाजे खुलते हैं। इस दिन अगर हम कोई भी नेकी करते हैं टी उसका सवाब हमें 70 गुना ज्यादा मिलता है।

जुम्मा के दिन को इतना खास माना जाता है कि इस्लामिक मान्यताओं के अनुसार अगर कोई जुम्मा के दिन मरता है तो उस व्यक्ति को शहीद का दर्जा दिया जाता है। लोग इस दिन नहाते हैं, अच्छे कपड़े पहनते हैं, मिस्वाक करते हैं, आंखों में सुरमा पहनते हैं और इत्तर भी लगाते हैं। इस दिन लोग सूरह कैफ भी पढ़ते हैं और बड़े ही उत्साह के साथ जुम्मा की नमाज़ अदा करते हैं। जुम्मा से पहले इस दिन मुस्लिम लोग दरूद शरीफ पढ़ते हैं और नबी मोहम्मद (S.A.W) को भेजते हैं। हो सके तो इस दिन सूरह कैफ भी पढ़ी जाती है। इस दिन हमारी मांगी सही दुआएं पूरी होती हैं।

जब जुम्मा के लिए सबसे पहली अज़ान होती है तो लोग सभी काम छोड़ कर मस्जिदों में जुमे के लिए निकल पड़ते हैं। काम कोई भी हो छोटा या बड़ा इससे फर्क नहीं पड़ता क्योंकि मुस्लिम लोग खुदा को राज़ी करने के लिए कुछ भी छोड़ सकते हैं। माना जाता है कि जो व्यक्ति जुम्मा की नमाज़ के लिए सबसे पहले मस्जिद के अंदर दाखिल होता है, उसे सबसे ज़्यादा सवाब (इनाम) मिलता है। इसलिए लोग जुम्मा की नमाज़ के लिए मस्जिद में सबसे पहले दाखिल होने की कोशिश करते हैं।

जुम्मा के दिन इस दुनिया पर आए सबसे पहले इंसान आदम (अ. स) को खुदा ने बनाया था और जन्नत में दाखिल किया था और जुम्मा के दिन ही रब ने आदम (अ. स) को इस धरती पर भेजा और जुम्मा ही के दिन आदम (अ. स) का इंतकाल हो गया था। माना जाता है कि जुम्मा के दिन ही इस दुनिया का अंत होगा यानी कयामत आएगी। और भी ऐसी कई कहानियां हैं जिस की वजह से जुम्मा के दिन को एक खास दिन माना जाता है और पूरे हफ्ते में सबसे बढ़िया दिन जुम्मा का दिन होता है।

जुम्मा के दिन एक ऐसा घंटा आता है जब कोई भी व्यक्ति दुआ मांग सकता है और अगर वो दुआ मुस्लिम मान्यताओं द्वरा सही है तो उसकी दुआ जरूर पूरी होगी। लेकिन अगर दुआ सही नहीं है तो दुआ पूरी नहीं होगी। मुस्लिम पुरषों को जुम्मा की नमाज़ अदा करना अनिवार्य होता है लेकिन महिलाओं के लिए जुम्मा की नमाज़ में शामिल होना विकल्प होता है लेकिन जोहर की नमाज़ पढ़ना महिलाओं के लिए अनिवार्य होता है। पुरषों के लिए जुम्मा की नमाज़ पढ़ना फ़र्ज़ माना जाता है।

रमज़ान के जुमे को और भी खास माना जाता है। रमज़ान का महीना मुस्लिम लोगों के लिए बहुत खास होता है। रमज़ान के जुमे में लोग नए कपड़े पहनते हैं और बहुत अच्छे से रोज़ा खोलते हैं। रोज़ा खोलते समय कई सारे पकवान भी शामिल किए जाते हैं। ईरान जैसे देशों में महिलाएं भी जुम्मा की नमाज़ में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेती हैं और पुरुषों से अलग जुम्मा की नमाज़ पढ़ती हैं। इन मस्जिदों में महिलाएं पुरुषों से पीछे खड़ी हो कर जुम्मा की नमाज़ अदा करती हैं।

हालांकि भारत और पाकिस्तान जैसे कई देशों में महिलाओं को मस्जिदों में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। इस्लाम के अनुसार महिलाओं को नमाज़ अपने घर मे ही अदा करनी चाहिए। पुरषों को नमाज़ मस्जिद में जाकर पढ़नी चाहिए। कुछ ऐसे मुस्लिम देश हैं जहां पर शुक्रवार को छुट्टी का दिन होता है और रविवार को आम दिनों की तरह काम किया जाता है। भारत में भी मदरसा और कई मुस्लिम कार्य स्थल हैं जहां पर जुम्मा को छुट्टी का दिन होता है।

जुम्मा के दिन से हमें ये सीख मिलती है कि हमें अच्छे कपड़े पहनने चाहिए और हमेशा पाक और साफ रहना चाहिए। मुस्लिमों के अनुसार ऊपर वाले को राज़ी करने के लिए कुछ देर के लिये काम छोड़ना कोई बड़ी बात नहीं है। क्योंकि हमारी असल जिंदगी हमारे मरने के बाद शुरू होगी। अगर इस दुनिया मे हम सिर्फ कुछ मिनट काम छोड़ के खुदा को राज़ी करते हैं तो मरने के बाद हमारा समय बिना किसी दिक्कत के गुज़रेगा।

जुम्मा की नमाज़ अदा करने के लिए सभी लोग एक ही कतार में खड़े होते हैं। चाहे वो राजा हो या कोई भिकारी लेकिन खुदा के सामने सभी बराबर हैं। इससे हमें सीखना चाहिए कि हमें किसी को भी छोटा या बड़ा नहीं समझना चाहिए। हमें हमेशा सब्र से काम लेना चाहिए और फल की चिंता किये बिना ऊपर वाले कि सेवा करनी चाहिए। ऊपर वाला समय आने पर हमें खुद वाजिब इनाम देगा। आप बस सब्र से नमाज़ अदा करते जाईये।

तो दोस्तों उम्मीद है की आपको आजका यह Jumma Mubarak Status In Hindi से जुड़ा पोस्ट पसंद आया होगा और अलविदा जुम्मा मुबारक स्टेटस, Jumma Mubarak Status Dua, Jumma Mubarak Status Hindi, Jumma Mubarak Status Photo 2021! से जुड़ी पूरी जानकारी मिल गयी होगी।

उम्मीद है की आपको Jumma Mubarak Status In Hindi (Jumma Mubarak Status 2021) का यह पोस्ट पसंद आया होगा और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here