Krishna Quotes In Hindi (101+ श्री कृष्णा भगवान क्वोट्स)

0

दोस्तों अगर आप भगवान श्री कृष्णा पर क्वोट्स या सुविचार तलाश रहे हो तो आजके इस पोस्ट में हम आपके साथ gita quotes, shri krishna ke vichar in hindi, mahabharat krishna quotes, krishna anmol vachan, shri krishna thoughts in hindi and top best God Krishna Quotes In Hindi! share करिंगे।

कभी बाल गोपाल तो कभी मुरलीधर, अनिरुद्ध जैसे नामों से जाने जाने वाले भगवान श्री कृष्ण का जन्म इस पृथ्वी पर दुष्टों का संहार करने हेतु हुआ था। वैसे तो भक्तगण पूरे वर्ष में उनकी भक्ति करते हैं परंतु जन्माष्टमी के दिन उनके जन्म दिवस के मौके पर कृष्ण मंदिरों पर भक्तों का ताता उमड़ जाता है। और इस मौके पर इंटरनेट पर श्रद्धालुओं द्वारा श्री कृष्णा कोट्स भी शेयर कर उनके अनमोल विचारों को लोगों तक पहुंचा कर उनके प्रति श्रद्धा व्यक्ति की जाती है।

भगवान कृष्ण के बारे में आपने बचपन से ही किताबों तथा टीवी में जरूर पढ़ा एवं देखा होगा। उनका जन्म मथुरा के कारागार में हुआ एवं गोकुल में नंद के वहां उनका पालन पोषण हुआ। भगवान श्री कृष्ण ने मनुष्य को इस पृथ्वी पर जीवन जीने का सही तरीका सिखाया है, उन्होंने गीता में उपदेश देकर लोगों को इस सांसारिक मोह के बारे में समझा कर व्यक्ति के जीवन की समस्याओं से जुड़े अनेक सवाल बेहद सटीक एवं स्पष्ट शब्दों में दिए हैं।

उनकी भक्ति में जो कोई लीन हो जाता है उसका जीवन सफल हो जाता है। वह व्यक्ति फिर अपना पराया, सुख-दुख, जीवन मरण इन सारी बातों से कोसों दूर इसी पृथ्वी में रहकर एक ऐसे संसार में जीवन जीता है जहा भगवान कृष्ण की भक्ति हमेशा उसके कर्म, विचारों एवं उसकी वाणी से होती है। उनके द्वारा मनुष्य को बताए गए अनमोल वचनों का यदि कोई पालन कर ले तो उसका जीवन संवर जाएगा। अगर कोई व्यक्ति उनके बालपन की कहानियां पढ़ें और महाभारत के युद्ध में उनकी भूमिका को समझें!

अर्थात उनके जीवन की किताब अगर कोई ध्यान पूर्वक समझ ले तो उसके लिए जीवन जीना काफी सरल और आनंदमय हो जाएगा। पेश है भगवान श्री कृष्ण के जीवन से जुड़ी 10 बातें जिन्हें सीखकर मनुष्य अपना जीवन सफल बना सकता है! महाभारत के युद्ध में जिस प्रकार भगवान कृष्ण ने एक भ्राता और एक मित्र के रुप में अर्जुन और पांडवों का मुश्किल परिस्थितियों में साथ दिया, यह दर्शाता है कि एक अच्छी मित्रता में कोई शर्त नहीं होती!

एक सच्चा मित्र आपको जीवन में हमेशा कठिन हालातों में निकालने के लिए तत्पर रहेगा, तो क्या आपके पास भी कुछ ऐसे मित्र हैं जो हमेशा आपके लिए तैयार रहते हैं? भगवान श्री कृष्ण ने अपने जीवन के माध्यम से लोगों को कई शिक्षाएं दी, अनुशासन में रहना व्यर्थ की चिंताओं में अपना समय न लगाना तथा भविष्य पर नहीं बल्कि अपने वर्तमान में समय केंद्रित करने की शक्ति दी, अगर मनुष्य इन बातों को जीवन में उतार ले तो उसका आधा दु:ख यू ही समाप्त हो जाता है।

आज के आधुनिक जीवन में जहां मित्रता पैसे की मोहताज बन चुकी है। कृष्ण भगवान ने अपने जीवन के उन पलों में भी अपने गरीब मित्र सुदामा से उसी तरीके का व्यवहार किया एवम् उन्हें वही सम्मान दिया। जो उन्हें बालपन में मिला था जो दर्शाता है कि कृष्ण की मित्रता नि:स्वार्थ थी जो सच्चाई और ईमानदारी से परिपूर्ण थी। अपने मजबूत पक्ष को समझना, भगवान श्री कृष्ण भलीभांति कौरवों के कौशल से परिचित थे जिसके आधार पर उन्होंने पांडवों के लिए सही रणनीति बनाकर उन्हें जीत का महामंत्र दिया।

भगवान श्री कृष्ण मानव को दूरदर्शिता के गुण को अपनाने का सुझाव देते हैं, उनके अनुसार मनुष्य के पास परिस्थितियों का आकलन करने की क्षमता होनी चाहिए। हिम्मत रख कर सफलता पाएं। कौरवों के पास विशाल सेना और योद्धा होने के बावजूद वे पांडवों को नहीं हरा पाए। भगवान कृष्ण ने रणभूमि में पांडवों को समझाया तुम हिम्मत न हारो बल्कि अपना पूरा प्रयास करो। अपने कर्तव्य पथ पर चलते रहें! 

रणभूमि में जब अर्जुन अपने रिश्तेदारों से युद्ध करने से पीछे हटने की कोशिश कर रहे थे! तब भगवान श्री कृष्ण ने गीता के एक उपदेश में कहा कि तुम अपना पराया छोड़ कर इस युद्ध को अपने कर्तव्य के खातिर लड़ो अगर तुम जीत गए तो तुम्हें राजशासन मिलेगा अगर हार गए तो वीर गति को प्राप्त होंगे इसलिए हे अर्जुन युद्ध से पीछे ना हटो। उनके इस वाक्य से हमें शिक्षा मिलती है कि हमें किसी भी युद्ध में या परिस्थिति में अपने कर्म पथ से विचलित नहीं होना चाहिए। फिर चाहे उसका परिणाम कुछ भी हो।

भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि किसी दूसरे के सहारे जिंदगी जीने के बजाय अगर आप खुद के बल पर जीना शुरू करें तो जिंदगी जीना आपके लिए सरल होता जाएगा। भगवान कृष्ण कहते हैं जो हुआ वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है वह अच्छा ही हो रहा है, और जो होगा वह अच्छा ही होगा। कृष्ण के अनुसार आपके द्वारा किए गए अच्छे कर्म के समय आने पर आपको जरूर फल मिलेंगे आप बस अच्छे कर्म करते रहो, फल की चिंता ना करें। तो चलिए देखते है कुछ भगवान श्री कृष्णा पर क्वोट्स या सुविचार (God Krishna Quotes In Hindi) के बारे में।

Krishna Quotes In Hindi

Krishna Quotes In Hindi

बुराई तो तुम्हें हजारों की भीड़ में भी तुम्हे ढूंढ लेगी ठीक उसी प्रकार
जैसे गायों की झुंड में बछिया अपने मां को ढूंढ लेती है। ।

Krishna Quotes In Hindi1

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और.

Krishna Quotes In Hindi2

जो हैं माखन चोर, जो हैं मुरली वाला,
वही हैं हम सबके दुःख हरने वाला।

Krishna Quotes In Hindi3

भाग्यवान वह होते हैं, जो राधा कृष्ण
के दरबार में शीश झुकाते हैं।

Krishna Quotes In Hindi4

मेरा-तेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया मन से मिटा दो फिर सब तुम्हारा हैं और तुम सबके हो.

Krishna Quotes In Hindi5

कर्म का फल व्यक्ति को उसी तरह ढूंढ लेता है,
जैसे कोई बछड़ा सैकड़ों गायों के बीच अपनी मां को ढूंढ लेता है।

Krishna Quotes In Hindi6

मन अशांत है, और नियंत्रित करना कठिन है,
किन्तु प्रयास करने से इसे शांत किया जा सकता है

किसी जीव को कष्ट देकर
तुम मुझे खुश कैसे देख सकते हो। ।

 क्रोध से भ्रम पैदा होता है. भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है.
जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है.
जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है.||

आत्मा न जन्म लेती है, न मरती है, ना ही इसे जलाया जा सकता है,
ना ही पानी से गिला किया जा सकता है, आत्मा अमर और अविनाशी है।

भूत और भविष्य में नही, जीवन तो इस पल में हैं अर्थात वर्तमान का अनुभव ही जीवन हैं

 इंसान कर्म करने में मनमानी कर सकता है।
लेकिन फल मांगने में नहीं।

वह दिन मत दिखाना कान्हा
कि हमें खुद पर गुरुर हो जाए
रखना अपने दिल में इस तरह
कि जीवन सुफल हो जाए। ।

मन की गतिविधियों, होश, श्वास, और भावनाओं के माध्यम से भगवान की शक्ति सदा तुम्हारे साथ है; और लगातार तुम्हे बस एक साधन की तरह प्रयोग कर के सभी कार्य कर रही है.||

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है, ना ही कहीं और है.

Krishna Thoughts In Hindi

Krishna Thoughts In Hindi

कृष्ण कहते हैं, अहंकार मत कर
किसी को कुछ भी देकर,
क्या पता – तू दे रहा है या पिछले जन्म का कर्जा चुका रहा है।

Krishna Thoughts In Hindi1

जो हुआ अच्छा हुआ , जो होगा अच्छा होगा
स्वयं को मुझ पर छोड़ दो
अपने कर्म पर ध्यान दो
कर्म ऐसा जो स्वार्थ , रहित पाप रहित हो। ।

Krishna Thoughts In Hindi2

अपने अनिवार्य कार्य करो, क्योंकि वास्तव में कार्य करना निष्क्रियता स बेहतर है।

Krishna Thoughts In Hindi3

जो मन को नियंत्रित नही करते उनके लिए वह शत्रु के सामान कार्य करता हैं.

Krishna Thoughts In Hindi4

यदि आप किसी के साथ मित्रता नहीं कर सकते हैं,
तो उसके साथ शत्रुता भी नहीं करना चाहिए

Krishna Thoughts In Hindi5

मंज़िलें मुझे छोड़ गई,
रास्तों ने संभाल लिया।
जा, जिंदगी तेरी जरूरत नहीं, कृष्ण ने मुझे संभाल लिया।

दुष्ट लोग अगर समझाने मात्र से समझ जाते
तो यकीन मानो महाभारत कभी ना होता। ।

आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो.
अनुशाषित रहो. उठो.||

कर्म का फल व्यक्ति को उसी तरह ढूंढ लेता है,
जैसे कोई बछड़ा सैकड़ों गायों के बीच अपनी मां को ढूंढ लेता है।

खुशियों में तो सब साथ होते हैं, असली दोस्त वही हैं जो दुःख में साथ दे

God Quotes In Hindi

God Quotes In Hindi

इस भौतिक संसार का यह नियम है
जो वस्तु उत्पन्न होती है, कुछ काल तक रहती है
अंत में लुप्त हो जाती है चाहे वे शरीर हो, फल हो ।

God Quotes In Hindi1

जो अपने मन पर नियंत्रण नहीं रखता
वह स्वयं का शनै शनै शत्रु बनता जाता है।

God Quotes In Hindi2

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है. जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है.||

God Quotes In Hindi3

 व्यक्ति या जीव का कर्म ही उसके भाग्य का निर्माण करता है।

God Quotes In Hindi4

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति को कभी भी सुख नही मिल सकता

तुम कृष्णा की तलाश करो
कृष्णा स्वयं तुम्हें ढूंढ लेंगे।

ज्यादा हंसने और बोलने वाला व्यक्ति
अगर चुप हो जाए
तो मान लेना वह भीतरसे टूट चुका है। ।

इस जीवन में ना कुछ खोता है ना व्यर्थ होता है.

जानने की शक्ति झूठ को सच से पृथक करने वाली जो विवेक बुद्धि हैं, उसी का नाम ज्ञान हैं

कृष्ण कहते हैं जब – जब संसार में धर्म की हानि होगी,
अधर्म की विजय। तब – तब मैं इस पृथ्वी पर अवतार लूंगा।

कृष्ण कहते हैं कि मनुष्य अपने कार्यों के अनुसार ही,
उन्नति व अवनति प्राप्त करते हैं।
यह जीवन अगले जीवन की तैयारी है
मनुष्य को सदा अच्छे कार्य करने चाहिए।

कृष्ण कहते हैं, इस जगत में मनुष्य भौतिक वस्तुओं का
भोग कर सकता है। अगर वे चाहे तो सब कुछ छीन सकते हैं।
मनुष्य कुछ भी नहीं कर सकता।

राधा कृष्ण की कृपा पाने के लिए,
हृदय में भक्ति जगाना होगा।
जिसमें यह भक्ति जागृत है, वह बड़ा भाग्य वान है।

तुमने यदि किसी वस्तु की इच्छा की,
यदि वह इच्छा कृष्ण के अनुकूल नहीं है
तो उस कार्य में सफलता नहीं मिलेगी।

भगवान श्री कृष्ण से सीखे रिश्ते निभाना: मित्रता ही नहीं वरन एक पुत्र के रूप में भी भगवान श्री कृष्ण ने जिस तरह रिश्तों को परिभाषित कर उन्हें ईमानदारी से निभाया वह वाकई प्रशंसनीय है। भगवान श्री कृष्ण का जन्म देवकी के गर्भ से हुआ था वसुदेव उनके पिता थे। लेकिन उनका जन्म गोकुल में यशोदा एवं नंद के घर हुआ था। अतः अपनी दोनों माताओं के साथ समान व्यवहार कर अपने जीवन में एक अच्छे पुत्र के दायित्व निभाया।

एक पुत्र के रूप में उन्होंने अपनी सारी जिम्मेदारियों को बड़ी कर्तव्य निष्ठा के साथ करके, जो सिखाता है मां बाप को ही हमारा जीवन समर्पित है। इसके अलावा भगवान विष्णु का अवतार होने के बावजूद भी उन्होंने अपने जीवन में कभी भी घमंड नहीं किया। उनके प्रति गुरु का सम्मान गुरु शिष्य भक्ति को दर्शाता करता है, वे जहां जहां संतो से मिले उन्हें पूरा सम्मान दिया।

साथ ही कृष्ण कि दीवानी राधा के संग उन्होंने जिस शिद्दत के साथ रिश्ता निभाया हम सभी जानते हैं वृंदावन में उन्होंने राधा के साथ प्रेम लीला रचाई। साथ ही राधा के साथ उनके पावन प्रेम ने पूरी दुनिया में आध्यात्मिक प्रकाश फैलाया।

तो दोस्तों उम्मीद है की आपको भगवान श्री कृष्णा पर क्वोट्स या सुविचार का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और gita quotes, shri krishna ke vichar in hindi, mahabharat krishna quotes, krishna anmol vachan, shri krishna thoughts in hindi and top best God Krishna Quotes In Hindi! से जुड़ी पूरी जानकारी मिल चुकी होगी।

उम्मीद है की आपको Krishna Quotes In Hindi (101+ श्री कृष्णा भगवान क्वोट्स) का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here