Best Motivational Speech In Hindi For Everyone

0

दोस्तों अगर आप प्रेरणादायक भाषण या कहानियां तलाश रहे हो तो आज इस पोस्ट में हम Motivational Speech for Students, powerful Motivational Speech, Life Changing Motivational Speech In Hindi and Best Motivational Speech In Hindi For Everyone के बारे में जानिंगे।

कभी-कभी जिन्दगी में सब कुछ सही होने के बावजूद भी हमारे दिमाग में कुछ ऐसे विचार आते हैं! जिनकी वजह से हमारे मन में अशांति, बैचैनी होने लगती है हम तनाव में आ जाते हैं हमारा ध्यान अपने कार्यों से हटने लगता है तो ऐसे समय में हमें Motivational Speech सुनना चाहिए।

साथियों Motivation हमारी जिंदगी में एक Fuel की तरह काम करता है! जिस तरह गाड़ी को चलाने के लिए ईधन की आवश्यकता पड़ती है उसी तरह Motivation हमारे लिए  ईंधन का काम करता है जो एक सोए, डरे इंसान में भी एनर्जी भरकर उसे वापस जोश और जुनून के साथ कार्य करने की शक्ति देता है।


इसलिए आपने अक्सर कई ऐसी Motivational Speech, प्रेरणादायक कहानियां सुनी होंगी जिन्हें सुनते ही आपको अपने कार्यों को तन मन धन से शुरू करने का और कामयाबी हासिल करने का मन करता होगा।

तो आज हम आपके लिए ऐसे ही कुछ शानदार Motivational Speech लेकर आए हैं। जिन्हें आप खुद सुनकर एवं दूसरों के साथ share करके उन्हें जिंदगी में कुछ बेहतर करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं तो लेख को अंत तक पढ़ने के बाद शेयर करना ना भूलें!

Motivational Speech for Students in Hindi

यहां उपस्थित आदरणीय प्रधानाचार्य जी, शिक्षक गण एवं महानुभावों को मेरा नमस्कार मेरा नाम.. मैं कक्षा…पढ़ता/पढ़ती हूं आज मुझे यह बताते हुए बेहद हर्ष हो रहा है कि मुझे इस खास मौके पर एक प्रेरणादाई स्पीच सुनाने का अवसर मिला है आशा है जोश एवं जुनून से भरने वाली यह मोटिवेशनल स्पीच आपको पसंद आएगी।

इस मोटिवेशनल कहानी का शीर्षक है ” मौके आएंगे”

एक कहानी है एक ऐसे स्टूडेंट्स की जो 12वीं कक्षा में पढ़ता था उसने अपना एक लक्ष्य बनाया कि वह इस साल 12वीं कक्षा में 90% अंक लेकर आएगा। और अब उसी लक्ष्य के आधार पर आगे का रास्ता भी सोच लिया कि वह आगे कौन से कॉलेज में एडमिशन लेगा? वह फ्यूचर में क्या बनेगा? इत्यादि इत्यादि!!

लेकिन जब बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं खत्म हुई कुछ समय बाद रिजल्ट आया तो पता चलता है उसके 88% मार्क्स आए! और मात्र 2 प्रतिशत अंक कम आने की वजह से उसके द्वारा जो भविष्य में लक्ष्य बनाए गए थे , उसे वे धुंधले नज़र आने लगे और इसी तनाव में आकर उसने आत्म्हत्या कर ली।

यह सिर्फ एक कहानी है! भारत में हजारों ऐसे उदाहरण हैं, जहां छात्रों ने सिर्फ परिक्षा में कुछ नंबर कम आने की वजह से अपना जीवन त्याग दिया। कई लोगों को यह लगता है कि स्कूली जीवन में नंबर कम आने के बाद आगे की जिंदगी कुछ है ही नहीं… परंतु ऐसा नहीं है यह हमारे जिंदगी को देखने का सिर्फ एक नजरिया है असल में जिंदगी इससे  काफी अलग है।

इसे हम एक उदाहरण के तौर पर समझते हैं। मान लीजिए जिंदगी एक क्रिकेट पिच की तरह है जहां पर Student एक Batsman है! हैं और होने वाली परीक्षाये एक Bowl है और हां जिंदगी के इस गेम में खिलाडी के पीछे कोई भी विकेट नहीं है। क्योंकि ये जिंदगी का गेम है, जिसमें हम तब तक Out नहीं हो सकते! जब तक कि हम मैदान से बाहर ना चले जाएं।

तो यदि सामने से कोई बॉल (परिक्षा) आ रही है तो उसे हमें एक अपॉर्चुनिटी की तरह लेना चाहिए! और खेलने के दौरान यदि वह bowl Miss हो जाती है तो समझे कि वह मौका गया। फिर दूसरी, तीसरी, चौथी बोल आएगी इसी तरह जिंदगी में हजारों बोल आएंगी। और यह हजारों Bowls को हमें मौैकों की तरह लेना है और हां जो मैदान में डट कर खड़ा है उसके सामने खेलने के लिए बोल आती जाएंगी।

कोई बात नहीं! एक बोल मिस हो गई तो दूसरी आएगी। दूसरी भी miss हो गई तो तीसरी, चौथी पांचवी आएगी और 5 bowl miss होने के बाद जैसे ही छटी bowl आती है तो आपने आगे बढ़कर सिक्स मार दिया। और आपके एक six से जिंदगी का पूरा खेल ही पलट जाएगा। क्योंकि आपने एक ही बॉल में 5 बॉल्स की सारी कसर निकाल दी!

वहीं यदि आप एक bowl के miss होने की वजह से आगे गेम खेलते ही नहीं और बैठ जाते तो फिर क्या आप खेल के हीरो बन पाते नहीं ना..! यदि जो student किसी परिक्षा को एक बॉल मानकर Miss कर देता है और उसे ही जिंदगी की आखरी बॉल समझ कर बैठ जाता है। और फिर दोबारा से गेम खेलने के लिए उठ नहीं पाता तो वह जिंदगी में कुछ हासिल नहीं कर पाता।

अतः हमें life को भी एक क्रिकेट गेम की तरह ही लेना है जहां पर कोई भी विकेट नहीं है, और इस गेम में आने वाली सभी बॉल्स को हमें मौकों की तरह लेना है और उन मौकों को भुनाना है। यदि हम किसी bowl पर हम चौका नहीं मार पाते हैं तो हमें उससे निराश नहीं होना। क्योंकि जिंदगी में हमें आगे भी कई सारी अपॉर्चुनिटी आने वाली है जिनके लिए हमें तैयार रहना होगा।

और सोचना है कि आने वाली बॉल में हमें छक्का मारना है। इसी तरह न सिर्फ परिक्षाओं की तरह जिंदगी में कोई मौके आते है जहां पर आप फेल हो जाते हैं। तो आपको उसे जिंदगी की सिर्फ एक बॉल समझना है जिसे आपने Miss कर दिया तो कोई बात नहीं!

आपके सामने सैकड़ों हजारों bowls आने वाली है और अब आपको प्रत्येक Bowl के लिए तैयार रहना चाहिए। आप सभी बॉल्स अर्थात सभी मौकों को नहीं भुना पाएंगे। लेकिन आपको कोशिश करनी है ज्यादा से ज्यादा बोल मौकों का आप फायदा ले सके। यह नहीं कि आप एक बॉल अर्थात मौक़ा हाथ से गवा देते हैं तो फिर आप डर कर बैठ जाएं और जिंदगी के इस खेल में मैच खेले ही ना।

तो साथियों आशा है आजा की यह मोटिवेशनल स्पीच जिन्दगी को देखने के प्रति आपका नजरिया बदलेगी! और जिंदगी में आपको निराशा हताशा से दूर ले जाएगी।

अब हम आपके साथ एक दूसरी मोटिवेशनल स्पीच शेयर कर रहे हैं! जिससे आप जो चाहे वह जिंदगी में हासिल कर सकते हैं।

Best Motivational Speech In Hindi

आप जो सोच सकते हैं वह कर सकते हैं!

वर्ष 1954 से पहले एथलीट्स की दुनिया में यह माना जाता था कि 1 मील की रेस को कोई भी व्यक्ति 4 मिनट के अंदर पूरा नहीं कर सकता। क्योंकि बड़े-बड़े एथलीट्स का मानना था कि मानव का शरीर यह कर ही नहीं सकता।

लेकिन विश्व के इतिहास में 6 मई 1954 का दिन यादगार बन गया क्योंकि इस दिन दुनिया के पहले एथलीट Sir Roger Gilbert Bannister ने यह कर दिखाया उन्होंने 3 मिनट 59 सेकंड के अंदर 1 मील की रेस पूरी कर ली। तो पूरी दुनिया जहां सोचती थी कि ऐसा कभी हो ही नहीं सकता। वहां पर Roger का दिमाग कहता था यह बिल्कुल हो सकता है और उन्होंने करके दिखाया।


Roger पेशे से एक डॉक्टर थे वह भली भांति जानते थे कि ऐसा हो सकता है! यह सिर्फ मनुष्य के दिमाग का एक मेंटल बैरियर है यह एक फिजिकल बैरियर नहीं है और अपने विश्वास के दम पर उन्होंने यह सच साबित कर दिखाया।

हमारी जिंदगी में यह आमतौर पर होता ही है हमने अपने दिमाग में कुछ ऐसे मेंटल बैरियर्स पाले हुए हैं! इसलिए जिस कार्य को हम सोचते हैं कि हम यह नहीं कर सकते, असल में वह कभी हम कर ही नहीं पाते। और वही कार्य दूसरे बड़े आसानी से  कर पाते हैं, जिस वजह से हमारी सफलता भी सीमित हो जाती है।

तो इस कहानी का सार यही है कि हम जो चीज सोचते हैं वह हम कर पाते हैं और जो सोचते हैं हम नहीं कर सकते वो हम नहीं कर पाते।

अतः यहां हम कह सकते हैं कि महान और एक औसत व्यक्ति के बीच का मुख्य अंतर होता है Attitude अर्थात उसके देखने का नजरिया। आइए इस कथन को उदहारण से सच साबित करते हैं।

बात उस समय की है जब दुनिया की दिग्गज़ Tech कंपनी Apple के संस्थापक स्टीव जॉब्स ipad डिजाइन कर रहे थे! इस दौरान उनके टीम ने एक ipad डिजाइन किया जिसे स्टीव जॉब्स ने कहा कि इसे और पतला करने की जरूरत है। लेकिन उनकी टीम ने जवाब में कहा कि हम इससे इससे अधिक पतला नहीं बना सकते!  इसमें पहले से ही काफी एनर्जी और टाइम निकल चुका है!

जवाब सुनके स्टीव जॉब्स साइड में रखे फिश टैंक के पास गए और उस ipad को उस फिश टैंक के अंदर गिरा दिया जैसे ही ipad पानी में जाता है तो उससे बुलबुले निकलने लगते हैं। स्टीव जॉब्स ने कहा कि इस रिपोर्ट में से Bubbles निकलने का मतलब है कि इसके अंदर अभी हवा है और इस हवा के स्थान पर हम इसे अधिक पतला बना सकते हैं।


जहां पर सभी ने यह कह दिया था कि इसको पतला नहीं बनाया जा सकता। उसी ipad को स्टीव के नजरिए की वजह से पतला बनाया गया और मार्केट में लांच किया गया। जीवन में सफल होना चाहते हैं, अपने लक्ष्य को पाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले अंदर पहले यह विश्वास लाना ही होगा। की आप उस चीज को वाकई कर सकते हैं!

तभी आपका Mind उस काम को करने के लिए तैयार होगा। अन्यथा आप वह कार्य कर ही नहीं पाएंगे। इसलिए कहा जाता है सफलता पाने के लिए खुद पर भरोसा होना अत्यंत आवश्यक है।

Life Changing Motivational Speech In Hindi

सभी को नमस्कार आज मैं यहां इस मौके पर आपके समक्ष एक बेहतरीन मोटिवेशनल स्पीच शेयर कर रहा हूं! जो आपकी जिंदगी में सकारात्मक परिवर्तन लाने का कार्य करेगी!

हमारी इस मोटिवेशनल स्पीच का शीर्षक है Action सोचिए आप रास्ते से गुजर रहे हैं, और रास्ते में एक व्यक्ति को किसी  पत्थर से चोट लग जाती है! और उस व्यक्ति को असीम दर्द होता है। और वह दर्द में बार-बार यह कहता कि यह पत्थर यहीं पर क्यों आया? इसकी वजह से मेरे पैर में क्यों लगी? काश यह पत्थर यहां पर नहीं होता तो मेरा पैर ठीक होता!

यह सब कहते कहते उसे 20 मिनट हो जाएं! और वह बार-बार इन्हीं शब्दों को दोहराते रहे और 20 मिनट बाद जब उसके पैर से काफी सारा खून बह चुका हो तब वह किसी डॉक्टर को फोन करें। तो आप क्या सोचेंगे आप यही तो कहेंगे कि यह व्यक्ति कितना पागल है? उसे चोट लगने के तुरंत बाद डॉक्टर को फोन करना चाहिए या डॉक्टर के पास जाना चाहिए था।

साथियों यह महज एक उदाहरण है परंतु असल जिंदगी में कई बार ऐसी स्थिति आती हैं! जब हम उस व्यक्ति की तरह ही React करते हैं। कई बार ऐसी समस्याएं आती हैं जिन्हें सुलझाने की कोशिश करने के स्थान पर हम लगातार यही शिकायत करते हैं कि आखिर ऐसा क्यों हुआ? यह मेरे साथ ही क्यों किया भगवान ने?  इत्यादि!!

बजाय इसके कि हमारे सामने जो प्रॉब्लम आ चुकी है! उसको Solve करने के लिए हम तुरंत निपटारा करें। जैसे कि उस व्यक्ति को अपने पैर में लगी चोट को ठीक करने के लिए तुरंत डॉक्टर को फोन करना चाहिए। इसी समय हम भी किसी समस्या के बारे में फ़ालतू सोचने, इतना शिक़ायत करने के स्थान पर यदि तुरंत उस प्रॉब्लम को Solve करने के लिए एक्शन ले तो शायद इंसान इतना दुखी ना हो।

अतः इस छोटी सी मोटिवेशनल स्पीच के माध्यम से हम आप तक यही बात पहुंचाना चाह रहे थे कि जिंदगी में जो परेशानी आए हमें उन परेशानियों कि शिकायतें, उन्हें सोचने के स्थान पर उन्हें ठीक करने के लिए Actions लेने चाहिए।

हम जितना समय प्रॉब्लम को सोचने में लगा देते हैं! काश अगर उतनी जल्दी हम एक्शन लें तो हम अपनी जिंदगी के कई सारे Goals पूरे कर पाएंगे।

तो इस मोटिवेशनल स्पीच का सार यही है कि मनुष्य को अपनी समस्याओं को सोचने उस पर समय नष्ट करने के बजाय उन समस्याओं से निपटने के लिए उस पर कार्य करने के लिए Action लेना चाहिए धन्यवाद।

तो दोस्तों उम्मीद है की अब आपको Motivational Speech for Students, powerful Motivational Speech, Life Changing Motivational Speech In Hindi and Best Motivational Speech In Hindi For Everyone से जुड़ी काफ़ी जानकारी मिल चुकी होगी।

उम्मीद है की आपको Best Motivational Speech In Hindi For Everyone! का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।


आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here