शेर की कहानियां | Sher Ki Kahani | Lion Stories in Hindi

शेर की कहानियां | Sher Ki Kahani | Lion Stories in Hindi! इस ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है। छोटे बच्चों को ज्यादातर जानवरों की कहानियां पसंद आता है जानवरों में सबसे शक्तिशाली शेर को कहा जाता है इस वजह से कहीं ना कहीं छोटे बच्चे शेर की कहानियां पढ़ना पसंद करते हैं।

अगर आपको Lion Stories In Hindi पढ़ना पसंद है तब आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं क्योंकि इस कहानी के पोस्ट पर हम लोग आप लोगों को शेर की कहानियां (Sher Ki Kahani) के बारे में बताएंगे।

अगर शेर की कहानियां के बारे में बताएं तो यह कहानियां ज्यादातर छोटे बच्चों को पसंद आता है, तो यदि आप अच्छा Lion Stories In Hindi पढ़ना चाहते है, तो यह पोस्ट आपको काफी अच्छा लगेगा।

शेर की कहानियां | Sher Ki Kahani | Lion Stories in Hindi

[5+] शेर की कहानी – Lion Stories In Hindi

यदि आपको Stories पढ़ना अच्छा लगता है, और आप शेर की कहानी (Sher Ki Kahani) पढ़ना चाहते है, तब आप नीचे बताएं गए शेर की कहानियां को पढ़ सकते है –

1) शेर और बैल की गलत सोच की कहानी

एक दिन एक बैल अपने खून से अलग होकर बाहर जंगल में चली आई थी तब उसके सामने एक शेर था शेर जंगल का राजा था गाय ने जब शेर को देखा तो वह बहुत डर गई परंतु तभी शेर ने गाय से कहा कि मैंने कुछ देर पहले ही स्वादिष्ट भोजन किया इस वजह से मैं तुम्हें नहीं खाऊंगा।

शेर का बात सुनकर बैल बहुत खुश हो गई और कुछ देर बाद शेर और बैल अच्छे दोस्त बन गए। कुछ दिन बाद शहर और शेर का बच्चा बैल और बैल के बच्चे के साथ मुलाकात करते हैं तभी बच्चा शेर और बच्चा बैल के बीच बहुत दोस्ती हो जाता है।

शेर और बैल जब इधर-उधर घूमता है तब उनको देख कर लोमड़ी को उनका शिकार करने का मन करता है तब वह सोचता है कि इनको तभी शिकार किया जा सकता है जब यह दोनों खुद खुद को मार दे कुछ साल बीत जाता है शेर और बैल बड़े हो जाते हैं।

लोमड़ी एक बार शेर के पास जाता है और कहता है जानते हो बैल ने कहा कि वह जंगल का राजा है और तुम उसके साथी यह सुनकर शेर बहुत गुस्सा हो जाता है और जाकर बैल को बताता है कि मैं इस जंगल का राजा हूं तब बैल गुस्से में आकर शेर से कहता है हाथों इस जंगल के राजा हो परंतु मेरे अंदर भी जंगल का राजा होने का सकती है।

शेर और बैल के बीच तो बहुत दोस्ती था परंतु लोमड़ी के वजह से वह लोग बहुत देर तक लड़ाई किए। शेर और बैल दोनों में ही बहुत ज्यादा ताकत था इस वजह से दोनों ने अपना ताकत को इस्तेमाल करते-करते लगातार एक घंटा तक लड़ाई किया 1 घंटे के बाद दोनों का ही मौत हो गया और बाद में लोमड़ी ने दोनों को ही खा लिया इस कहानी से हमें यह सीख मिलता है कि कभी दोस्ती में गलतफहमी नहीं करना चाहिए।

2) शेर और लोमड़ी का बच्चा की कहानी

एक बहुत बड़ी और घने जंगल में शेर और शेर का बच्चा रहा करता था शेर एक दिन गुफा से बाहर निकलता है और देखता है कि एक लोमड़ी का बच्चा उसके घर के सामने जोर-जोर से रो रहा है बच्चे के सामने जाकर पूछता है क्या हुआ है तब वह कहने लगता है कि मैं अपने परिवार से बिछड़ गया हूं।

शेर लोमड़ी का बच्चा को देख कर उसे अपने घर पर ले आता है और कहता है आज से तुम भी मेरे बच्चे हो लोमड़ी का बच्चा को देखकर शेर का बच्चा भी बहुत खुश हो जाते हैं और सभी लोग एक साथ खेलने लगते हैं कुछ देर बाद शेर कुछ काम की वजह से बाहर जाते हैं तभी लोमड़ी का बच्चा और शेर का बच्चा बाहर खेल रहे होते हैं।

जब लोमड़ी का बच्चा और शेर का बच्चा दोनों आपस में खेलते हैं तभी अचानक एक बहुत बड़ा सा हाथी चला आता है लोमड़ी का बच्चा डर के कारण गुफा के भीतर चला जाता है परंतु शेर के दो बच्चे हाथी को डराकर गुफा के बाहर से भगा देते हैं यह बात शेयर का बच्चा शेर से कहता है तब लोमड़ी का बच्चा बहुत बुरा मान जाता है और जोर जोर से रोने लगता है और कहता है कि मुझे मेरे परिवार के पास जाना है।

जब शेर सुनता है कि लोमड़ी का बच्चा अपने घर जाना चाहता है तो वह उसे पूछता है क्या तुम्हें कुछ बुरा लग रहा है जब लोमड़ी का बच्चा रहता है मैं शेर के जितना ताकतवर नहीं हूं मुझे इस बात से बहुत दुख है तब शेर जंगल में इधर-उधर घूमते हैं और लोमड़ी का परिवार को ढूंढ लेते हैं और लोमड़ी का बच्चा को लोमड़ी के परिवार को दे देता है। 

3) हिरण का सिंह और शेर की कहानी

एक जंगल में एक घमंडी हिरण रहा करता था हिरन खुद के सिंह को सबसे सुंदर और ताकतवर मानता था एक दिन वह जंगल में सभी जानवरों को बता रहा था कि उसका सीन सबसे ज्यादा सुंदर और शक्तिशाली है तभी एक और हिरण के साथ घमंडी हिरण का लड़ाई हो जाता है परंतु अंत में घमंडी हिरण ही जीता है।

घमंडी हिरण हर दिन किसी ना किसी जानवर के साथ लड़ाई करता था और सभी लड़ाई में जीत ता था और खुद के सिंह को सबसे ज्यादा सुंदर और शक्तिशाली मानता था एक दिन वह नदी के किनारे पानी पी रहा था तभी अचानक एक शेर उसके सामने उसे खाने आ रहा था तब वह बहुत जोर से भाग आया था परंतु भागते भागते उसका सिंह एक पेड़ में फस गया जिसके कारण वह कहीं भी भाग नहीं पाया।

फस जाने के कारण हिरण कहीं पर भी खेल नहीं पा रहा था परंतु शेर हिरण के बहुत पास आ गया था तभी हिरण अपने पैर का इस्तेमाल करके बहुत जोर से भागा और शेर से बहुत दूर आ गया तब उसे यह अहसास हुआ कि जिस पैर को वह कमजोर समझता था आज उसी ने उसको बचा दिया और तभी वह समझा कि कभी भी किसी को भगवान का दिया हुआ चीज पर अपमान नहीं करना चाहिए। 

4) चूहा और शेर की कहानी

एक शेर पेड़ के नीचे सो रहा था तभी अचानक पेड़ के ऊपर से एक चूहा शेर के ऊपर गिर पड़ता है शेर चूहा को देखकर बहुत गुस्सा हो जाता है और चूहा को खाने का धमकी देता है जिस वजह से चूहा शेर से बहुत डर जाता है।

चूहा चतुराई से शेर को कहता है यदि तुम मुझे खाओगे तो तुम्हारा पेट नहीं भरेगा क्योंकि मेरा आकार बहुत ही छोटा है यह बात को सुनकर शेर चूहा को नहीं खाता और उसे छोड़ देता है। 

कुछ दिन बाद शेर एक शिकारी के जाल में फंस जाता है तब चूहा अपने दाद से जाल को काट देता है और शेर को आजाद कर देता है उसके बाद शेर और चूहा में बहुत ही अच्छा दोस्ती हो जाता है और शेर समझता है कि कभी किसी का मदद करने से खुद को भी कभी मदद मिलता है। 

5) शेर और चालाक खरगोश की कहानी

एक जंगल में एक बहुत ही खूंखार शेर रहा करता था शेर सभी जानवरों को खा लेता था जो कि किसी भी जानवरों को पसंद नहीं था 1 दिन सभी जानवर मिलकर शेर के पास गया और कहा कि आपसे आप किसी को मारकर मत खाइए गा हम आपके पास जानवरों को भेजेंगे उसको आप शिकार करिएगा।

जंगल पूरी तरीके से शांत हो गया सभी जानवर एक जानवर को शेर के पास भेजते थे शेर उस जानवर को खा लेता था एक दिन सभी जानवर एक दुबले-पतले खरगोश को शेर के पास भोजन के लिए भेजते हैं।खरगोश जाने के वक्त एक कुआं को देखता है और क्योंकि खरगोश बहुत ही चालाक था इस वजह से उसके मन में एक बहुत ही अच्छा विचार आता है।

शेर खरगोश के पास जाता है तब शेर बहुत गुस्सा होकर खरगोश से कहता है तुम आने में इतना देर क्यों किए तब चालाक खरगोश शेर को देखकर कहता है कि जब मैं आ रहा था तब एक शेर मुझे रोक लिया था और कहा था कि तुम किसके पास जा रहे हो तब मैंने कहा कि मैं जंगल की राजा शेर के पास जा रहा हूं तब उस शेर ने कहा कि आप ढोंगी हो और वह इस जंगल का असली राजा है।

जब शेर ने सुना कि कोई और शेर खुद को जंगल का राजा कह रहा है और असली राजा को ढोंगी तब वह गुस्से में आकर खरगोश से पूछता है कि वह शेर कहां मिलेगा तब खरगोश शेर को कुआं के पास ले जाता है और शेर को कहता है कि आप देखिए शेर के अंदर ही वह शेर है शेर जैसे ही कुआं के अंदर देखता है तो वह अपनी परछाई को कोई और शेर समझकर कूड़ा में कूद जाता है और वह कुआं में डूब जाता है और चालाक खरगोश आजाद हो जाता है। 

आशा करता हूं कि आप सभी को शेर की कहानियां | Sher Ki Kahani | Lion Stories in Hindi! यह पोस्ट बहुत पसंद आया होगा। यदि आप और मजेदार और दिल जीत लेने वाले Latest Short Stories In Hindi आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं तब नीचे कमेंट कर दीजिएगा।

यदि आपको लगे की यह शेर की कहानियां (Lion Stories in Hindi) पोस्ट आप सभी के लिए उपयोगी है तब आप हमारे आज के इस पोस्ट को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को शेयर कर दीजिएगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here