नरेन्द्र मोदी पर भाषण – Speech On Narendra Modi In Hindi

0

दोस्तों अगर आप भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी पर भाषण देना चाहते हो और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर भाषण धूँड रहे हो तो आज इस पोस्ट में हम नरेन्द्र मोदी पर भाषण (Speech On Narendra Modi In Hindi), मोदी जी पर भाषण, Narendra Modi Speech In Hindi। आपके साथ share करिंगे।

अक्सर लोगों में यह विचारधारा होती है कि कुछ बड़ा करने के लिए आपके पास दौलत, सौहरत होना चाहिए। लेकिन कई ऐसे उदाहरण हैं जिन्होंने इस कथन को गलत साबित किया। एक सामान्य परिवार में जन्म लेने के बाद एक चाय की दुकान से अपने कैरियर कि शुरवात कर प्रधानमंत्री पद पर पहुंचकर देश की सेवा करने वाले भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी के बारे में आज पूरा विश्व भली भांति जानता है।

प्रधानमंत्री के पद पर रहते हुए न सिर्फ भारतीय जनता बल्कि विश्व के बड़े-बड़े राजनेता उन्हें महान लीडर के तौर पर जानते हैं। यदि आपको भी किसी मंच से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विषय पर स्पीच सुनाने का मौका मिला है।

तो इस आर्टिकल में हम आपको प्रधानमंत्री मोदी के विषय पर बड़े और छोटे भाषण उपलब्ध करा रहे हैं आप इनकी मदद से एक शानदार स्पीच तैयार कर सकते हैं।

नरेन्द्र मोदी पर भाषण – Speech On Narendra Modi In Hindi

भाषण 1 (Long Speech On Narendra Modi In Hindi)

भारत के इतिहास में अब तक सबसे लोकप्रिय एवं एवं सम्मानित प्रधानमंत्रियों में से एक है हमारे नरेंद्र मोदी। जो अपनी असाधारण भाषण कला, शीघ्र निर्णय लेने की क्षमता एवं देश के विकास के लिए उनकी स्पष्ट दूरदृष्टी ने भारत की जनता के दिलों में गहरा स्थान बनाया है।

विशेष कर, अपने विचारों को जनता के समक्ष व्यक्त करने की उनकी कला ने भारत ही नहीं बल्कि विश्व की अनेक महाशक्तियां जैसे अमेरिका ब्रिटेन रूस के शासनाध्यक्ष एवं वहां की जनता का भी दिल जीता है। माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी है। उनका जन्म गुजरात के वाद नगर में हुआ था। उनके पिता का नाम मूलचंद मोदी जब की माता का नाम हीराबेन था।

लाखों करोड़ों बच्चों की तरह ही उनका बचपन भी उन्हीं बच्चों की तरह बीता जो देश की आजादी के दौरान पैदा हुए थे। उस समय का भारत गरीबी भुखमरी जैसी समस्याओं से लड़ रहा था। परंतु इन हालातों से निराश होने की बजाय बचपन से ही नरेंद्र मोदी ने घर की जिम्मेदारी का बोझ लेते हुए घर खर्च में अपने पिता का हाथ बटाया।

स्कूली शिक्षा के दौरान ही घर की आर्थिक स्थिति बेहतर ना होने की वजह से उन्होंने कई सारी छोटी-छोटी जॉब्स कि जैसे कि उन्हें रेलवे प्लेटफार्म पर चाय की स्टॉल लगाई।

जब वे युवा अवस्था में थे वह भारत के एक लोकप्रिय संघ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संपर्क में आए। और इससे जुड़कर उन्होंने व्यक्ति के अंदर अनुशासन धैर्य ध्यान जैसे गुणों को सीखा इसी दौरान वे यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उभरते लीडर्स से भी मिले और उनसे सीख लेकर उनके द्वारा दिए गए निर्देशों का अनुसरण किया।

1980 के दशक में नरेंद्र मोदी ने पहली बार राजनीति में कदम रखा वे भारतीय जनता पार्टी की गुजरात विंग से जुड़े। यह वह समय था जब भारतीय राजनीति में भारतीय जनता पार्टी कोई प्रसिद्ध नाम नहीं था और यह वह पार्टी थी जिसने उस समय कांग्रेस के शासन में देश में लगाए गए आपातकाल के विरुद्ध अपनी आवाज उठाई।

साल बीते नरेंद्र मोदी राजनीति में नए नए अनुभव नई-नई चीजें सीखते रहें। और वर्ष 2001 में हुए गुजरात के चुनाव में उन्होंने पहली बार बतौर मुख्यमंत्री गुजरात की जिम्मेदारी संभाली। कहा जाता है कि अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने गुजरात की कायापलट कर दी। गुजरात पूरे भारत के सबसे सुरक्षित एवं टेक्नोलॉजी राज्य में शुमार हो गया।

अतः मुख्यमंत्री बनने के पहले ही बार में जनहित में किए गए उनके कार्यों की वजह से उन्हें दूसरी बार भी मुख्यमंत्री पद के लिए चुना गया और इस तरह वे 2001 से लेकर 2014 तक लगातार गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर आसीन रहे।

इन 14 सालों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात में कई तरह की योजनाएं शुरू की।परिणाम स्वरूप आज गुजरात को इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी,लघु एवं बड़े व्यापार उद्योग के लिए संपन्न राज्य माना जाता है। लेकिन न सिर्फ राज्य बल्कि देश की जनता की सेवा हेतु उन्होंने वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री पद के लिए चुनाव लड़ने का फैसला किया और जनता ने उनके इस फैसले का भरपूर सपोर्ट करते हुए भारी बहु मतों से उन्हें जीत दिलाई।

प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए भी उन्होंने कई अहम फैसले लेकर देश की जनता के हित में कार्य किया। स्वच्छ भारत अभियान से संपूर्ण देश को सफाई के लिए जागरूक करना। नोटबंदी करके काले धन में कमी लाना। एवं कई मौकों पर सीमा पार से आतंकवादियों की नापाक हरकतों के लिए भारतीय सेना को खुला जवाब देने की इजाजत देना। स्पष्ट विदेश नीति जैसे कई अनेक फैसलों से  भारत की छवि को वैश्विक स्तर पर सम्माननीय बनाया। विश्व में भी भारत को बड़ी बड़ी महाशक्तियों जैसे अमेरिका रूस जैसे ताकतवर देशो ने भी प्रधानमंत्री मोदी की लीडरशिप का लोहा माना।

अतः 2014 के 5 साल बाद वर्ष 2019 में जब फिर से प्रधानमंत्री पद के लिए चुनाव हुए तो इसमें भी प्रधानमंत्री मोदी ने बड़े अंतर से विपक्षी पार्टियों को मात दी और आने वाले चुनावों में जीत की हैट्रिक को लेकर वे तैयार है।

एक चाय वाले से प्रधानमंत्री का कार्यकाल संभालने तक के उनके सफर से एक आम नागरिक काफी कुछ सीख सकता है। कई लोग जीवन में अपनी असफलता का कारण पर्याप्त संसाधन की कमी को कहते हैं। विभिन्न मौकों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी सफलता का राज पूछा गया है जिन पर उनके विचार निम्नलिखित हैं।

असाधारण भाषण कला

अपने भाषणों के जरिए जनता का ध्यान आकर्षित करने की इस कला ने उन्हें आज इस स्तर तक पहुंचने में काफी मदद की उनके द्वारा अपने विचारों को जनता तक पहुंचाने की यह कला वाकई सराहनीय है जिसे उनकी सफलता का प्रमुख राज भी कहा जाता है।

शीघ्र निर्णय लेने की क्षमता

अनेक मौकों पर ऐसा देखा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी ने शीघ्र निर्णय लिए हैं और उन निर्णयों से जनता का हित भी हुआ है। और यही शीघ्र निर्णय लेने की क्षमता उन्हें भारत के कुछ गिने चुने नेताओं में से एक बनाती हैं।

स्पस्ट दूरदृष्टी

भविष्य को लेकर उनका लक्ष्य स्पष्ट होता है उनकी यह दूरदर्शिता ही है जो जनता को आगामी लक्ष्य की ओर आकर्षित करती है। जिससे सब लोग एकजुट होकर उस निर्णय को प्राप्त करने के लिए जुट जाते है।

इन गुणों के अलावा उम्र के इस मोड़ पर आने के बावजूद भी एक अनुशासित जीवन जीने की उनकी कला एवं तकनीक के प्रति उनका रुझान जिस वजह से उन्होंने डिजिटल इंडिया की शुरुवात की मोदी जी की सफलता का प्रमुख राज है।

भाषण 2 (Medium Speech On Narendra Modi In Hindi)

आदरणीय महानुभाव यहां उपस्थित सभी लोगों को मेरा दिल से नमस्कार आज मैं यहां इस अवसर पर माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर कुछ उपयोगी जानकारियां आपके साथ साझा करने के लिए उपस्थित हूं।

30 मई 2019 को लगातार दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी ने जनता सेवा का जिम्मेदारी ली। उनके पिता का नाम स्वर्गीय दामोदरदास मूलचंद मोदी एवं माता का नाम हीरा मोती है। 6 भाई बहनों में से नरेंद्र मोदी अपने माता पिता की तीसरी संतान थे।

वे न सिर्फ एक प्रधानमंत्री बल्कि देश के करोड़ों लोगों की प्रेरणा के स्रोत भी हैं। जिन्होंने एक सामान्य परिवार में जन्म लेकर चाय की दुकान से अपने कैरियर की शुरुआत कर एक प्रधानमंत्री बनने तक का सफर तय किया।

नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर वर्ष 1950 को एक निम्न मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। परिवार के किसी भी सदस्य का दूर-दूर तक राजनीति से कोई संबंध नहीं था लेकिन उनकी कठिन परिश्रम सफलता के पीछे के जुनून एवं दृढ़ निश्चय ने यह साबित कर दिया कि सफलता पाने के लिए व्यक्ति की जाति हालात या फिर व्यक्ति किस स्थान यह महत्व नहीं रखता।

वर्ष 2001 में पहली बार वे मुख्यमंत्री के पद पर गुजरात में आसीन हुए। लेकिन जनसभा के प्रति उनके नि:स्वार्थ भाव को जनता ने भरपूर सपोर्ट किया। और एक नहीं दो नहीं बल्कि लगातार तीन बार वे गुजरात के मुख्यमंत्री बने रहे वर्ष 2014 में उन्होंने प्रधानमंत्री पद के लिए चुनाव लड़ने का फैसला लिया।

और इस बार न सिर्फ गुजरात बल्कि देशभर की जनता ने बड़े बहुमत के साथ उन्हें सत्ता पर आकर देश सेवा के लिए आमंत्रित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देश के करोड़ों लोगों के इस विश्वास को कम नहीं होने दिया और अपने प्रधानमंत्री शासनकाल के दौरान जनहित एवं देश हित में अनेक ऐसे कार्य किए जिससे उनकी छवि न सिर्फ भारत अपितु विश्व मैं एक महान लीडर के तौर पर सामने आई।

विश्व की बड़ी बड़ी महाशक्तियां जैसे अमेरिका रूस जापान जैसे देशों के साथ भारत के अच्छे संबंध इस बात के संकेत देते है कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा सिर्फ राष्ट्रीय स्तर पर बल्कि वैश्विक स्तर पर भारत का नाम उज्जवल करने के भरपूर प्रयास किए है। देश की प्रमुख पार्टियों में से एक भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ऐसे राजनेता थे जिन्हें जनता द्वारा पहली बार 5 वर्ष से ज्यादा वर्षों के शासन के बाद दोबारा से सत्ता पर आने का मौका दिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करोड़ों निम्न एवं सामान्य वर्ग के परिवारों के लिए आशा की कीरण है। वे ऐसे व्यक्ति हैं जिनका लक्ष्य देश की प्रगति है और वे देश को आत्मनिर्भर बनाने कि पहल करने, महिला सशक्तिकरण एवं सामाजिक बुराइयों को खत्म कर देश की युवा शक्ति को हमेशा प्रेरित करते रहते हैं।

भाषण 3 (Short Speech On Narendra Modi In Hindi)

एक कुशल वक्ता, सफल राजनेता एवं करोड़ों लोगों के जीवन की प्रेरणा की मिसाल के रूप में विख्यात व्यक्ति प्रधानमन्त्री माननीय नरेंद्र मोदी  का पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी है।

उनका जन्म वर्ष 1950 में मुंबई के वाद नगर के मेहसाना जिले में हुआ था जो कि वर्तमान में गुजरात में है। उनके पिता का नाम मूलचंद मोदी था एवं माता का नाम हीराबेन है। पारंपरिक रीति-रिवाजों से नरेंद्र मोदी की सगाई मात्र 13 वर्ष की आयु में कर दी गई और जब वे मात्र 17 वर्ष के थे तब उनका विवाह जशोदाबेन चमनलाल से हो गया।

मात्र 8 वर्ष की आयु में वे RSS (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ);से जुड़ गए। और अपना ध्यान सामाजिक एवं सांस्कृतिक विकास करने वाली संस्थाओं पर लगा दिया। अनेक महत्वपूर्ण मौकों पर वे Rss में अपनी भूमिका निभाते रहे। जनसेवा के प्रति आकृष्ट होकर उन्होंने राजनीति में कदम रखने का मन बनाया। और वर्ष 1987 में भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन करके राजनीति में आ गए।

मात्र 1 साल के अंदर ही क्षमता अनुसार उन्हें गुजरात यूनिट की जनरल सेक्रेटरी के तौर पर नियुक्त कर दिया गया। वर्ष 2001 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में रहकर ही गुजरात में होने वाले मुख्यमंत्री चुनाव की लड़ाई लड़ी। और जनता के प्यार एवं सपोर्ट के साथ वह पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बन गए।

अपने शासनकाल में किए गए कार्यों और गुजरात को  विकास की दिशा में ले जाने वाले मोदी को 2007 में हुए गुजरात में फिर से जीत मिली। और वर्ष 2012 में भी उन्होंने बड़े अंतर से जीत प्राप्त करके विपक्षी पार्टियों का प्रधानमंत्री मोदी ने बुरा हाल किया।

राजनीति में उनके बेबाक अंदाज एवं जनसेवा के प्रति उनके समर्पण को देखते हुए उन्हें वर्ष 2014 में होने वाले प्रधानमंत्री के चुनाव के लिए कैंडिडेट के तौर पर चुना गया। और इस बार है8 पूरे देश भर में समर्थन के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सत्ता पर बैठाया गया।

देश के विकास हेतु अपने विचारों एवं कार्यों के जरिए प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए भारतीय जनता की नजरों में उन्होंने एक अच्छे लीडर के तौर पर अपनी छवि बनाई या8m और वर्ष 2019 में भी प्रधानमंत्री के चुनाव में लगातार दूसरी बार उन्हें जीत मिली है। देश के सामान्य वर्ग या निम्न मध्यमवर्गीय परिवारों के विकास के लिए देशभर में कई योजनाएं चलाई गई है। जैसे देश में भ्रष्टाचार से मुक्ति के लिए नोटबंदी, स्वच्छ भारत अभियान जैसे कार्यों से देश की जनता ने खूब सराहना की।

और न सिर्फ राष्ट्रीय स्तर पर बल्कि वैश्विक स्तर पर भी विदेशी शासनाध्यक्षों के साथ प्रधानमंत्री मोदी के अच्छे संबंध भारत के बेहतर भविष्य को दर्शाते हैं।

एक महान लीडर के तौर पर जाने जाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के करोड़ों लोगों की प्रेरणा के स्रोत भी हैं, जिन्होंने अपने जीवन से लोगों को एक बड़ा संदेश दिया है कि एक गरीब मध्यम वर्गीय परिवार में जन्म लेने के बाद एक चाय की दुकान में नौकरी करके अपनी मेहनत एवं सूझबूझ से किस तरह एक बड़े पद तक पहुंचा जा सकता है।

अतः सभी युवाओं, नागरिकों से उनके जीवन से कुछ सीख जरूर लेनी चाहिए धन्यवाद।

उम्मीद है की अब आपको नरेन्द्र मोदी पर भाषण से जुड़ी काफ़ी जानकारी मिल गयी होगी, और आप नरेन्द्र मोदी पर भाषण (Speech On Narendra Modi In Hindi), मोदी जी पर भाषण, Narendra Modi Speech In Hindi। के बारे में काफ़ी कुछ जान गये होंगे।

उम्मीद है की आपको नरेन्द्र मोदी पर भाषण – Speech On Narendra Modi In Hindi का यह पोस्ट पसंद आया होगा, और हेल्पफ़ुल लगा होगा।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा नीचे कॉमेंट करके ज़रूर बताए, और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here